कुख्यातम्

पकड़ा गया अंडरवर्ल्ड डॉन का ‘मोती’, क्या परिवार को लंदन में शिफ्ट कराना चाहता है दाऊद?

पकड़ा गया अंडरवर्ल्ड डॉन का ‘मोती’, क्या परिवार को लंदन में शिफ्ट कराना चाहता है दाऊद?

कुख्यातम्, गरमा-गरम, होम
दिल्ली। अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का 'मोती' पकड़ा गया. अब 'मोती' खोलेगा डॉन का राज़. मोस्ट वॉन्टेड दाऊद के फाइनेंस मैनेजर जबीर मोती को लंदन में गिरफ्तार किया गया. जबीर पर ब्रिटिश जांच एजेंसियों ने शिकंजा कसा. जबीर कि गिरफ्तारी हिन्दुस्तान के लिए बड़ी कामयाबी है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत ने जबीर मोती की गिरफ्तार किए जाने की मांग की थी. 'मोती' खोलेगा डॉन का राज़ जबीर सिद्दीकी उर्फ जबीर मोती पाकिस्तानी नागरिक है और दाऊद के आर्थिक मामलों का इंचार्ज माना जाता है. पाकिस्तान से बाहर दाऊद के परिवार का आने-जाने का हिसाब-किताब यही मैनेज करता था. 2016 में इसे ब्रिटेन का 10 साल का वीजा मिला था. इसे लंदन के हिल्टन होटल से गिरफ्तार किया गया. ब्रिटेन में रह रहे जबीर मोती और दाऊद की पत्नी महजबीन, बेटी महरीन और दामाद जुनैद (पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर जावेद मियांदादा का बेटा) के बीच लेनदेन क
शिव की भक्ति के नाम पर गुंडागर्दी का लाइसेंस! यूपी में कांवड़ियों ने कई जगहों पर मचाया कोहराम

शिव की भक्ति के नाम पर गुंडागर्दी का लाइसेंस! यूपी में कांवड़ियों ने कई जगहों पर मचाया कोहराम

कुख्यातम्, गरमा-गरम, होम
दिल्ली। सावन के महीने में पूरे देश के कई हिस्सों में कांवड़ यात्रा निकलता है। लेकिन इस नाम पर पिछले कुछ सालों से कांवड़ियों के द्वारा गुंडागर्दी की जा रही है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या इन्हें धर्म के नाम पर गुंडागर्दी का लाइसेंस मिल गया है। कांवड़ियों का कोहराम पहले दिल्ली, उसके बाद बुलंदशहर और अब मुजफ्फरनगर में कुछ बेलगाम कांवड़ियों का हुड़दंग जारी है। अब उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में कांवड़ियों की गुंडागर्दी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में 15 से 20 कांवड़ियों की गुंडागर्दी का एक समूह एक कार पर हमला करता हुआ और हुंडदंग मचाता दिख रहा है। #WATCH: A group of 'kanwariyas' vandalized a car in Muzaffarnagar earlier today after it brushed past them on the road. Passengers escaped with minor injuries pic.twitter.com/y4mzKp0rVx — ANI UP (@ANINewsUP) Augu
वॉट्सऐप और फेसबुक पर मौत बांट रहा ‘मोमो’ चैलेंज, जरा बच के रहें…

वॉट्सऐप और फेसबुक पर मौत बांट रहा ‘मोमो’ चैलेंज, जरा बच के रहें…

कुख्यातम्, होम
सोशल मीडिया पर कब क्या ट्रेंड करने लगे इसका अंदाजा किसी को नहीं होता। लेकिन इन दिनों सोशल मीडिया गेम्स की बाढ़ आ गई है। इनमें से कई तो जानलेवा हैं। इन नेटवर्किंग साइट्स पर आए अनजान नंबरों को बिना सोचे-समझे सेव भी न करें। अगर आपने ऐसा किया तो वो अज्ञात नंबर आपके लिए जानलेवा साबित हो सकता है। वॉट्सऐप और फेसबुक पर मौत बांट रहा नंबर 'मोमो' कहलाता है। मौत बांट रहा 'मोमो' चैलेंज ये भी पढ़ें: ‘चैलेंज’ के चक्कर में चली जाती है जान, पुलिस की एडवाजरी भी नहीं आती काम ये भी पढ़ें: भारत में भी चढ़ रहा है किकी चैलेंज का बुखार, अभिनेत्री नोरा फतेही भी ऑटो से कूदीं ब्लू व्हेल और किकी चैलेंज के बाद इन दिनों सोशल मीडिया में 'मोमो' चैलेंज काफी तेजी से वायरल हो रहा है। ब्लू व्हेल और किकी से भी खतरनाक ये गेम वॉट्सऐप के जरिए फैल रहा है। दावा किया जाता है कि मोमो जापान से ताल्लुक रखती है और मोमो चैले
मुजफ्फरपुर में ब्रजेश की ‘लंका’, कितने करोड़ का मालिक है ब्रजेश ठाकुर?

मुजफ्फरपुर में ब्रजेश की ‘लंका’, कितने करोड़ का मालिक है ब्रजेश ठाकुर?

कुख्यातम्, गरमा-गरम, पॉलिटिक्सम्, होम
पटना। मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांड में रोजाना नए खुलासे हो रहे हैं. नीतीश कुमार सफाई पर सफाई दे रहे हैं. उनके मातहत मंत्रालय के अफसर भी मीडिया के सामने लाइन लगाकार बैठते हैं ताकि उनके विभाग से जुड़ा कोई सवाल हो तो जवाब दे सकें. लग रहा है कि अब नीतीश कुमार भी इन्हीं सवालों-जवाबों से अपडेट हो रहे हैं. वो पहले ही कह चुके हैं कि इस 'पाप' से शर्मिंदा हैं. किसी को बख्शा नहीं जाएगा, चाहे जितना भी रसूखदार हो. ब्रजेश ठाकुर की 'रसूखदारी' देखिए मगर ब्रजेश ठाकुर रसूखदार है इसमें किसी को शक नहीं है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी नहीं. मगर पिछले 2 महीने से कहने को जेल में भेजे गए ब्रजेश ठाकुर 57 दिन अस्पताल में गुजार चुका है. डॉक्टरों का कहना है कि ब्रजेश ठाकुर की तबीयत 'बहुत' खराब है. उनको इलाज की 'सख्त' जरुरत है. अब जब डॉक्टर कह रहे हैं कि तबीयत 'बहुत' खराब है तो किसकी मजाल की जेल की काल कोठरी में
ब्रजेश ठाकुर की ‘वुमेन मिस्ट्री’, सेक्स वर्कर से ‘मधु मैडम’ बनने की कहानी

ब्रजेश ठाकुर की ‘वुमेन मिस्ट्री’, सेक्स वर्कर से ‘मधु मैडम’ बनने की कहानी

कुख्यातम्, गरमा-गरम, होम
पटना। आज से 17 साल पहले 2001 में तत्कालीन ट्रेनी आईपीएस दीपिता सूरी ने मुजफ्फरपुर रेडलाइट एरिया में 'ऑपरेशन उजाला' चलाया था. इसका मकसद ह्यूमन ट्रैफिकिंग के धंधे को खत्म करना था. उस समय अनवर मियां को सरगना के तौर पर चिन्हित किया गया था. उसके घर के तहखाने से काफी लड़कियों को बरामद किया गया था. 'ऑपरेशन उजाला' के तहत बाद में मोहल्ला सुधार समिति का गठन हुआ. इसी दौरान मधु का संपर्क ब्रजेश ठाकुर से हुआ. यहीं से मधु की किस्मत जाग उठी और आगे चल कर वो ब्रजेश ठाकुर के सरपरस्ती में 'मधु मैडम' बन गई. 'ब्रजेश सर' और 'मधु मैडम' केमिस्ट्री मुजफ्फुरपुर पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक मधु, ब्रजेश ठाकुर की मुख्य सेक्स वर्कर थी. इससे पहले वो देह व्यापार में शामिल थी. ब्रजेश ठाकुर ने मधु के जरिए मुजफ्फरपुर के चतुर्भुज स्थान के रेड लाइट इलाके में अपनी पहुंच बनाई. उसे अपने अपनी संस्था वामा शक्ति वाहिनी में
बिहार शेल्टर होम सेक्स स्कैंडल: आरोपी ब्रजेश ठाकुर पर मेहरबान थी नीतीश सरकार!

बिहार शेल्टर होम सेक्स स्कैंडल: आरोपी ब्रजेश ठाकुर पर मेहरबान थी नीतीश सरकार!

कुख्यातम्, गरमा-गरम, होम
पटना। बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में बालिका गृह में 34 बच्चियों से रेप के मामले में केस सीबीआई को सौंप दिया गया है। इस केस की जांच अब सीबीआई ने शुरू कर दी है। लेकिन इस मामले में कई खुलासे हो रहे हैं कि आखिरी कैसे ये सब कुछ होता रहा और किसी को भनक तक नहीं लगी। जब भनक लगी तो महीनों कोई कार्रवाई नहीं हुई। रिपोर्ट्स के अनुसार मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर पर नीतीश सरकार मेहरबान थी। आखिरी कैसे ये सब कुछ होता रहा? खबर के अनुसार बिहार के मुजफ्फरपुर बाल गृह के मुख्य आरोपी माने जाने वाले ब्रजेश ठाकुर पर बिहार सरकार कितनी मेहरबान है, इसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज होने वाले दिन उसको पटना में मुख्यमंत्री भिक्षावृत्ति निवारण योजना के तहत एक और अल्पावास का टेंडर दे दिया गया। समाज कल्याण विभाग के पास टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की रिपोर्ट महीनों से मौजूद थी और उसे
रांची में ‘बुराड़ी कांड’: एक ही परिवार के 7 लोगों ने की खुदकुशी, जिंदा बहन का किया था अंतिम संस्कार

रांची में ‘बुराड़ी कांड’: एक ही परिवार के 7 लोगों ने की खुदकुशी, जिंदा बहन का किया था अंतिम संस्कार

कुख्यातम्, गरमा-गरम, होम
रांची। दिल्ली के बुराड़ी के बाद झारखंड में सामूहिक खुदकुशी के दो मामले आए हैं। करीब 15 दिन पहले हजारीबाग में कर्ज से परेशान एक ही परिवार के छह लोगों ने खुदकुशी कर ली थी। अब झारखंड की राजधानी रांची में एक ही परिवार के सात लोगों ने खुदकुशी कर ली है। परिवार में पांच लोगों की मौत गला दबाने से और दो लोगों की फांसी पर लटकने से मौत हुई है। झारखंड में सामूहिक खुदकुशी के दो मामले पुलिस के अनुसार अभी तक जो जांच हुई है, उसके मुताबिक दोनों भाइयों ने पहले पांच लोगों की गला दबाकर हत्या की, उसके बाद दोनों फांसी लगया। इस घटना के बाद कांके थाना क्षेत्र के बोडिया इलाके में सनसनी फैल गई है। घर से पुलिस को 15 पन्ने का सुसाइड नोट भी मिला है। एक निजी कंपनी में काम करने वाले दीपक झा ने अपने छोटे भाई रूपेश के साथ मिलकर अपनी माता-पिता, पत्नी और दो बच्चों की हत्या कर खुद भी फांसी लगाकर खुदकुशी की। मीडिया र
मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामला: कीड़े की दवाई खिलाकर होता था बच्चियों से रेप!

मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामला: कीड़े की दवाई खिलाकर होता था बच्चियों से रेप!

कुख्यातम्, गरमा-गरम, होम
पटना। बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में 34 लड़कियों के साथ रेप मामले ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है। इस मामले में हर दिन नए खुलासे हो रहे हैं। सरकार ने जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंप दिया है। मुजफ्फरपुर पुलिस ने 34 लड़कियों के साथ मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद रेप की पुष्टि की है। वहीं, बालिका गृह की पीड़िताओं ने एक अखबार से बात करते हुए बताया है कि देर रात तक उनका रेप होता था। 'गृह' में 34 लड़कियों के साथ रेप अखबार के अनुसार ने लड़कियों ने कहा है कि उन्हें भूखा रखने के साथ ही ड्रग्स दिए जाते थे। सभी पीड़ित लड़कियों की उम्र 7-18 साल की है। जिसमें से ज्यादातर को बोलने में परेशानी है। उनलोगों ने आरोप लगाया है कि उन्हें खाने में दवाएं मिलाकर दी जाती थीं, बिना कपड़े सोने पर मजबूर किया जाता था और विरोध करने पर बुरी तरह से पीटा जाता था। ये भी पढ़ें: बिहार: शेल्टर होम सेक्स स्कै
बिहार का वो ‘रेप गृह’, जहां लूट ली गई 29 बच्चियों की अस्मत!

बिहार का वो ‘रेप गृह’, जहां लूट ली गई 29 बच्चियों की अस्मत!

कुख्यातम्, गरमा-गरम, होम
पटना। मुजफ्फरपुर के बालिका गृह (शेल्टर होम) के 44 में से 29 लड़कियों के साथ रेप मामले की बिहार सरकार सीबीआई जांच नहीं कराएगी. डीजीपी ने कहा कि वो पुलिस की जांच से संतुष्ट है. हालांकि केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में कहा कि अगर राज्य सरकार सिफारिश करे तो सीबीआई से जांच करा सकते हैं. बिहार की विपक्षी पार्टियां मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रही है. मुजफ्फरपुर से पटना होते हुए दिल्ली पिछले दो महीने से सुर्खियों में चल रहा ये मुद्दा अब मुजफ्फरपुर से पटना होते हुए दिल्ली पहुंच चुका है. रोज नए-नए खुलासे हो रहे हैं. पुलिस सबूत जुटाने के लिए मिट्टी तक खोदवा रही है. मगर सबूत है कि मिल ही नहीं रहा. जांच, अब भी वहीं है जहां 2 महीने पहले था हालांकि सबूत जुटाने के नाम पुलिस हाथ-पैर मारते जरुर दिख रही है. मगर अब तक कुछ खास हासिल नहीं कर सकी है. जिसे लेकर मामले की सीबीआई जांच की मांग उठ
बाबा रे बाबा…! ‘जलेबी बाबा’ के 120 अश्लील कांड

बाबा रे बाबा…! ‘जलेबी बाबा’ के 120 अश्लील कांड

कुख्यातम्, गरमा-गरम, होम
दिल्ली। बाबा रे बाबा...कैसे-कैसे बाबा...तौबा-तौबा...ऐसे बाबाओं से तौबा...बचना...बचना...ऐसे बाबाओं से बचना...जलेबी बाबा से तो जरुर बचना. बाबाओं की गुनाह समाज और भरोसे का कत्ल कर रहे हैं. आजकल एक नया बाबा 'चर्चा' में है. वो है 'जलेबी बाबा'. उसके गुनाह जानेंगे तो दांतों तले उंगलिया दबा लेंगे. 'जलेबी बाबा' का बैकग्राउंड वैसे तो हरियाणा के कई बाबा देश-दुनिया में 'नाम' बटोर चुके हैं. मगर अब एक नया बाबा 'नए' कारनामे के साथ ढोंग के बाजार में सुर्खियां बटोर रहा है. इसकी कारस्तानी जानेंगे तो आप भी हैरान हो जाएंगे. पहले इसका नाम और काम जान लीजिए. बिल्लू जलेबी वाला से इसका नाम आखिर जलेबी बाबा क्यों और कैसे पड़ा? इसके पीछे भी एक लंबी-चौड़ी कहानी है. फतेहाबाद जिले के टोहना कस्बे में बाबा अमरपुरी उर्फ जलेबीवाला का आश्रम है. करीब 20 साल पहले इसी इलाके में वो रेहड़ी पटरी पर जलेबी और पकौड़ी का दुका