पत्नियों के व्यवहार को जानने के लिए पतियों के लिए आ गया App

0
22
kope app made to help men decode their wives behavior

दिल्ली। पत्नियों का व्यवहार जानने के लिए एक ऐप (Kope) बाजार में आया है. मगर ये ऐप विवादों में आ गया है. एक जापानी कंपनी से पतियों की मदद करने वाला ये ऐप बनाया है. ऐप बनाने के पीछे मकसद था छोटे बच्चों के पालन-पोषण में माता-पिता दोनों की भागीदारी को प्रोत्साहित करना.

Kope नाम का App

Ezaki Glico Co जापान की सबसे बड़ी कन्फेक्शनरी कंपनी है. हाल ही में Kope नाम का ऐप रिलीज किया है. गड़बड़ी तब हुई जब इस ऐप के प्रमोशन के लिए बनाई गई वेबसाइट में पतियों की दी गई सलाह पर लोगों ने ऐतराज करना शुरू कर दिया. वेबसाइट में बताया गया है कि ”महिला-पुरुष में नोंकझोंक इसलिए होती है क्योंकि उनके दिमाग अलग-अलग होते हैं. ऐप (Kope) में कहा गया है कि पुरुषों के ब्रेन का सर्किट का बनावट और उनसे निकलने वाले सिग्नल के आधार पर अलग होता है. इसलिए भले ही उनमें समान सूचनाएं जाएं लेकिन उनका रिएक्शन अलग-अलग होता है”.

Kope में दी गई सलाह

Kope में सलाह दी गई है, जिसका शीर्षक है कि ”मां की भावनाओं का पिता के लिए ट्रांसलेशन” जिसमें उन 8 संभावित पैटर्न का जिक्र किया गया है जब पत्नी नाराज होती है. इसके बाद उन्हें पुरुषों के लिए अनुवाद किया गया है.

ये भी पढ़ें: बेहतर प्रेमी और पति साबित होते हैं इन 7 राशियों के लोग, आप किस राशि के व्यक्ति हैं…

ऐप (Kope) का दावा है कि जब कोई महीला कहती है, ”अब हमारे साथ रहने का कोई मतलब नहीं है” तो असल में वो पूछना चाह रही है कि ”तुम मेरे बारे में क्या सोचते हो?” इसी तरह जब पत्नी कोई काम करते हुए कहे कि ”यह काफी मुश्किल है” तो असल में वो कहना चाहती है कि ”मैं जो कर रही हूं तुम्हें उसकी तारीफ करनी चाहिए”.

ऐप (Kope) में सिर्फ पत्नियों के लिए सलाह नहीं है बल्कि पतियों को भी सलाह दी गई है. जब भी महिला पूछे कि ”तुम्हारे लिए क्या जरूरी है, तुम्हारी नौकरी या फैमिली?” तब पुरुषों को ये कहते हुए माफी मांग लेनी चाहिए कि ”माफ करो मेरी वजह से तुम्हें अकेलापन लग रहा है”. ऐप में आगे पुरुषों को ये सुझाव भी दिया गया है कि ”पत्नी के जवाबों से बचने के लिए वो विषय को बदलते हुए अपने ऑफिस में होने वाली समस्याओं का जिक्र करने लगे”.

आलोचना के बाद बयान

सोशल मीडिया पर इस ऐप की खूब आलोचना हुई. एक आलोचक ने तो कंपनी (Kope) पर आरोप लगाया है कि ”वो मानती हैं कि महिलाओं को गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है. बस उनसे सहानुभूति या आभार जताना ही काफी है, ये साफ तौर पर महिलाओं की अपेक्षा करना है”. बहरहाल कंपनी ने इस पर कोई कमेंट नहीं किया है. मगर ऐप (Kope) और वेबसाइट पर कुछ सेक्शन में बदलाव किए हैं. एक बयान जारी करके कंपनी ने बस इतना कहा कि ”हम अपने कस्टमर्स के सुझावों को दिल से स्वीकर करते हैं और सुधार करने की कोशिश करते हैं”.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.