‘हिम्मत है तो भाई का आवास खाली करा ले सरकार, बंगला-बंगला ना खेलें नीतीश कुमार’

1
10
tej pratap yadav

‘हिम्मत है तो भाई का आवास खाली करा ले सरकार, बंगला-बंगला ना खेलें नीतीश कुमार’

पटना: बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव (Tejaswi yadav) का सरकारी बंगला खाली कराने पहुंची अधिकारियों और पुलिस की टीम को विरोध का सामना करना पड़ा. इस बीच, तेजस्वी के पक्ष में उनके भाई और पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव भी उतर पड़े हैं.

पुलिस के अनुसार, जिलाधिकारी से आदेश मिलने के बाद अधिकरियों की एक टीम पुलिस बल के साथ तेजस्वी (Tejaswi yadav) के पटना के पांच देशरत्न मार्ग स्थित सरकारी आवास खाली कराने के लिए बुधवार सुबह पहुंचे. यहां उन्हें आवास के बाहर एक पर्चा चिपकाया हुआ दिखा, जिस पर लिखा है कि बंगला खाली कराने का मामला अदालत में विचाराधीन है.

ये भी पढ़ें-  PU में चला ‘pk’ का जादू, अध्यक्ष पद पर JDU की जीत, ABVP का तीन सीटों पर कब्जा

धरने पर बैठे राजद नेता

विपक्षी नेता के आप्त सचिव प्रीतम कुमार द्वारा जारी इस पर्चे में कहा गया है कि इस मामले की सुनवाई अदालत में सूचीबद्घ है. इसके बाद अधिकारी अपने उच्च अधिाकरियों के साथ निर्देश प्राप्त करने की कोशिश ही कर रहे थे कि राजद कार्यकर्ताओं के विरोध का भी सामना करना पड़ा. राजद के कार्यकर्ता तेजस्वी यादव के (Tejaswi yadav) बंगला के सामने धरने पर बैठ गए हैं.

ये भी पढ़ें- ‘बख्श दीजिए जनाब! जीत भी गए तो पीएम नहीं बन जाएंगे’

बंगला-बंगला ना खेले सरकार

इधर, पूर्व मंत्री तेजप्रताप का भी तेजस्वी को साथ मिला है. तेजप्रताप ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार बंगला-बंगला नहीं खेले. उन्होंने कहा कि सरकार की नजर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर नहीं जाती है, लेकिन लालू परिवार को कैसे परेशान किया जाए इसी पर ध्यान केंद्रित है.

अदालत में है बंगला मामला

गौरतलब है कि तेजस्वी (Tejaswi yadav) को यह बंगला उपमुख्यमंत्री की हैसियत से आवंटित किया गया था. उपमुख्यमंत्री पद से हटने के बाद भवन निर्माण विभाग ने बंगला खाली करने को कहा था, जिसे लेकर तेजस्वी (Tejaswi yadav) ने पटना उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल की थी. जिस पर सुनवाई करते हुए अदालत ने पिछले माह बंगला खाली करने का आदेश दिया था. तेजस्वी इसके बाद एक बार फिर अदालत पहुंचे हैं.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.