सावन का पहला सोमवार: 19 साल बाद बना ऐसा योग, जानें पूजा विधि

सावन का पहला सोमवार: 19 साल बाद बना ऐसा योग, जानें पूजा विधि

दिल्ली। इस बार का सावन महीना अपने साथ कई श्रेष्ठ संयोग लेकर आया है। पहला संयोग यह कि सावन इस बार शनिवार से शुरू हुआ है, जो अपने आप में खास होता है। दूसरा इस बार सावन में पांच सोमवार होंगे और तीसरा यह कि ऐसा संयोग 19 साल बाद बना है, जब सावन का महीना पूरे 30 दिनों का होगा। इन सबसे अलग कई शुभ मुहूर्त बन रहे हैं, जो सावन में शिव भक्तों को खुशियों से सराबोर कर रहे हैं।

इस बार सावन में पांच सोमवार

इस सावन का पहला सोमवार आज है। इस दिन सौभाग्य योग बन रहा है। सौभाग्य योग बहुत शुभ और मंगलकारी माना जाता है। विवाह का मुहूर्त निकालते समय इस योग का विशेष महत्व होता है। मान्यता है कि इस मुहूर्त में शादी करने से गृहस्थ जीवन सुखमय रहता है। वहीं सावन के सोमवार में इस मुहूर्त में पति-पत्नी साथ में शिवलिंग की पूजा करें तो उन्हें भोले भंडारी सहित मां पार्वती की भी विशेष कृपा प्राप्त होती है।

ये भी पढ़ें: राशि अनुसार भगवान शिव को सावन में इस तरह करें प्रसन्न, मिलेगा शुभ फल

ये भी पढ़ें: सावन में भूलकर भी ना करें ये 10 काम, शिवजी हो जाते हैं नाराज!

तालमेल के लिए पति-पत्नी करे पूजा

वहीं, इस पति-पत्नी अपने रिश्तों में बेहतर तालमेल के लिए सोमवार को शिवलिंग की पूजा करें। अविवाहित लोग मनचाहे जीवनसाथी की कामना के साथ शिवलिंग का पूजन कर शिव कृपा प्राप्त कर सकते हैं। पूजा करते समय इन बातों का खासकर ध्यान रखें। शिवलिंग पर सबसे पहले गंगाजल चढ़ाएं। यदि गंगाजल उपलब्ध न हो तो ताजा जल तांबे के लोटे में भरकर शिवलिंग पर अर्पित करें। इसके बाद दूध, दही, शहद, चावल शिवलिंग पर अर्पित करें।

प्रसाद में मिश्री, मीठे बताशे

फिर बेल के पत्ते, ताजे फलों और फूलों से शिवलिंग का श्रृंगार करें या शिवजी पर अर्पित करें। शिवलिंग पर चंदन, रोली और अक्षत से टीका लगाएं और प्रसाद चढ़ाएं। प्रसाद में मिश्री, मीठे बताशे या मीठा इलायचीदाना रख सकते हैं। शिवलिंग के सामने दीया-धूप करें और शिवजी की आरती कर प्रसाद सभी में बांट दें और खुद भी खाएं। दिन भर मन को साफ रखें, किसी के लिए गलत विचार मन में न लाएं और शिवजी से सुखमय जीवन के लिए प्रार्थना करें।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: