गालवान का सच छिपाने के लिए इस हद तक गिरा चीन !

0
27

दिल्ली। अपने देश के लिए शहादत देना हर सैनिक के लिए गर्व की बात होती है। लेकिन जब कोई देश अपने सैनिकों की शहादत पर उसे सम्मानित करने के बजाय उन्हें पहचानने से ही इनकार कर दे तो उस देश को किस विशेषण से नवाजा जा सकता है।

गलवान में मारे चीनी सैनिकों के शवों को दफनाने से इनकार

ऐसा ही कुछ हुआ है चीन के सैनिकों के साथ। क्योंकि चीन अपने सैनिकों द्वारा किए गए अंतिम बलिदान को पहचानने के लिए तैयार नहीं है। क्योंकि सरकार उन सैनिकों के परिवारों पर दबाव बना रही है। एक खुफिया आकलन के मुताबिक गालवान में मारे गए चीनी सैनिकों के शवों को दफनाने से इनकार कर दिया है।

शहादत को लेकर भारत और चीन की सोच

चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच खूनी संघर्ष 15 जून को हुआ था जिसमें दोनों पक्षों के सैनिक हताहत हुए थे। भारत ने बिना किसी हिचकिचाहट के स्वीकार किया कि उसके 20 सैनिक संघर्ष में शहीद हो गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 जून को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात के दौरान गालवान घाटी संघर्ष में अपनी जान गंवाने वाले सेना के जवानों के प्रति संवेदना व्यक्त की और कहा कि इनके बलिदान को भूला नहीं जा सकता है। लेकिन इस घटना के एक महीने के बाद भी, चीन ने अभी भी ये खुलासा नहीं किया है कि इस घटना में उसके कितने सैनिक मारे गए थे।

मारे गए चीनी सैनिकों के परेशान परिवार

वहीं चीन सरकार द्वारा अपने प्रियजनों को खोने वाले दुखी चीनी परिवारों के साथ दुर्व्यवहार किया जा रहा है। पहले, चीनी सरकार ने इस घटना के बाद अपनी तरफ से हताहतों की संख्या को स्वीकार करने से इनकार कर दिया और अब सैनिकों को दफनाने से इनकार कर दिया है। अमेरिकी खुफिया आकलन के अनुसार, चीन इस बात को स्वीकार नहीं कर रहा है कि उनके ये सभी सैनिक गालवान घाटी में भारतीय सैनिकों द्वारा मारे गए थे। चीन सरकार ने अब तक केवल कुछ अधिकारियों की मौतों को स्वीकार किया है। भारतीय अंतर्विरोधों से पता चला है कि चीनी पक्ष ने 43 सैनिकों की जान गंवाई है। वहीं अमेरिकी खुफिया विभाग का मानना ​​है कि प्रदर्शन में चीनी सैनिकों में से 35 मारे गए थे।

सोशल मीडिया का लिया सहारा

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के इस फैसले ने उन चीनी परिवारों को परेशान कर दिया है जिन्होंने इस घटना में अपने प्रियजनों को खो दिया था। यूएस-आधारित ब्रेइटबार्ट न्यूज के अनुसार चीनी सरकार उन सैनिकों के परिवारों को चुप कराने के लिए संघर्ष कर रही है जो अपने गुस्से और हताशा को बाहर निकालने के लिए वीबो और अन्य प्लेटफार्मों का उपयोग कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.