चुनावी मौसम में दिग्विजय सिंह का ‘यह झोल’ कांग्रेस का बड़ा नुकसान करेगा!

0
100
चुनावी मौसम में दिग्विजय सिंह का 'यह झोल' कांग्रेस का बड़ा नुकसान करेगा!

चुनावी मौसम में दिग्विजय सिंह का 'यह झोल' कांग्रेस का बड़ा नुकसान करेगा!

दिल्ली। पिछले कुछ चुनावों की अगर बात करें तो कांग्रेस के दिग्गज नेता कुछ ऐसा कर जाते हैं कि पार्टी को बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है। गुजरात चुनाव के दौरान मणिशंकर अय्यर के द्वार दिए गए बयान के बाद कांग्रेस को जो खामियाजा भुगतना पड़ा, उसे राहुल कैसे भूल सकते हैं।

दिग्विजय सिंह का ‘ट्विटरकांड’

अब मध्यप्रदेश में दिग्विजय सिंह भी कुछ ऐसा ही झोल कर रहे हैं। पाकिस्तान के पुल को भोपाल का बताकर वे पार्टी की किरकिरी करवा रहे हैं। दरअसल, एमपी में विधानसभा चुनावों की सरगर्मी तेज हो गई है।

कांग्रेस ने जमीन से लेकर सोशल मीडिया तक पर बीजेपी को घेरना शुरू कर दिया है। इसी फेर में कांग्रेस के दिग्गज नेता ट्विटर पर बड़ी गलती कर बैठे। इस गलती की वजह से उन्हें खूब ट्रोल किया गया।

दिग्विजय ने एक पुल के फोटो को शेयर करते हुए लिखा कि यह सुभाष नगर रेलवे फाटक भोपाल पर बन रहे रेलवे ओवर ब्रिज का एक पोल, जिसमें आ गईं दरारें/क्रैक इसकी गुणवत्ता पर सवाल उठाती हैं।

अभी तो पुल भी नहीं बना। एक बीजेपी नेता के मार्गदर्शन में हो रहा है, फिर यह सब क्यों और कैसे? वाराणसी की दुर्घटना यहां भी ना हो जाए।

ये भी पढ़ें:

जान लीजिए, आखिर कौन तैयार करता है राहुल गांधी की स्पीच?

सरकारी बंगले का फर्श तक उखाड़ ले गए अखिलेश?

लालू परिवार में कलह! बड़े बेटे ने कहा- पार्टी में मेरी कोई नहीं सुनता

भोपाल का बताया रावलपिंडी का पुल

ट्वीट के बाद लोग दिग्जविजय सिंह को ट्रोल करने लगे और इस पुल की हकीकत बताने लगे। एक यूजर्स ने लिखा कि जो पुल की तस्वीर लगाई, वह असल में पाकिस्तान की है।

इस तस्वीर को 2016 में इसे दिल्ली मेट्रो के एक फ्लाईओवर की बताकर वायरल किया जा रहा था। उस वक्त कई बड़ी वेबसाइट ने इसका सच बताया कि असल में यह पाकिस्तान के रावलपिंडी की है। एक पत्रकार आदिल राजा ने फरवरी 2016 में ही इस तस्वीर को शेयर किया था।

इस ट्वीट के बाद दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह के भी निशाने पर आ गए। शिवराज ने दिग्विजय को जवाब देते हुए लिखा कि पता नहीं इनको ऐसा क्यों लगा कि मध्य प्रदेश में आज भी उनके जमाने जैसी धांधलियां होती होंगी। यह वह हैं जो जमीन पर तो छोड़िए, अपने ट्विटर हैंडल पर भी पुल ठीक से नहीं बना पाए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.