ऑल इंडिया लेवल के एग्जाम में साउथ के छात्रों का जलवा, सूरज कृष्ण JEE मेन में टॉप

दिल्ली। ऑल इंडिया लेवल के होनेवाले परीक्षा में साउथ के छात्रों का जलवा कायम है. यूपीएससी के बाद इंजीनियरिंग के सबसे बड़े इंट्रेंस में भी साउथ के छात्रों ने बाजी मारी. संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) मेन में का रिजल्ट जारी कर दिया गया.

साउथ के छात्रों ने बाजी मारी

पहले स्थान पर विजयवाड़ा (आंध्र प्रदेश) के सूरज कृष्ण ने बाजी मारी. जबकि दूसरे स्थान पर भी आंध्र प्रदेश के ही छात्र केवीआर हेमंत रहे. तीसरे स्थान पर राजस्थान के पार्थ लथूरिया हैं.

रिजल्ट का डिटेल जानने के लिए आप बोर्ड की वेबसाइट jeemain.nic.in और cbseresults.nic.in पर जा सकते हैं.

साउथ के छात्रों का जलवा

ये भी पढ़ें: आ गया UPSC का रिजल्ट, हैदराबाद के अनुदीप का इंजीनियर से टॉपर बनने की कहानी

2 लाख 31 हजार 24 छात्र पास

11 लाख 35 हजार 84 छात्र परीक्षा में शामिल हुए थे. इसमें 2 लाख 31 हजार 24 छात्र पास हुए. भाग लेने वालों में लड़कों की संख्या 6 लाख 46 हजार 814 है

जबकि लड़कियों की संख्या 2 लाख 66 हजार 745 है. 3 ट्रांसजेंडर ने भी इस परीक्षा में भाग लिया था.

पास होने वालों में जेनरल कैटेगरी से 1 लाख 11 हजार 275, ओबीसी से 65 हजार 313, एससी से 34 हजार 425, एसटी से 17 हजार 256 और दिव्यांग कैटेगरी से 12 हजार 755 छात्र हैं. इंडिया से बाहर भी इसकी परीक्षा हुई थी.

जेईई एडवांस से क्या फायदा?

जेईई मेन में पास होने वाले छात्र 20 मई को आयोजित होने वाली जेईई एडवांस के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे. इसके लिए 2 मई से रजिस्ट्रेशन प्रॉसेस शुरू हो जाएगा.

जेईई मेन के बाद जेईई एडवांस के पीछे स्पेशलिस्ट का कहना है कि ये एक स्पेशल एग्जाम होता है. आईआईटी में एडमिशन के लिए इसका आयोजन हर साल होता है.

ये भी पढ़ें: लव-जेहाद पर फिल्म दिखाने का JNU में विरोध, हिंसक झड़प के बाद थाने पहुंचा मामला

ये परीक्षा पास करने के बाद छात्र बीटेक, बीएस, बीआर्क, डबल बीटेक या एमटेक, बीएस या एमएस, मासटर्स एमटेक, डबल एम.एससी कोर्सेज में एडमिशन लेते हैं.

इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन के लिए सीबीएसई ने 8 अप्रैल को जेईईई मेन ऑफलाइन और 15-16 अप्रैल को जेईई मेन का ऑनलाइन एग्जाम लिया था.

पहले कहा जा रहा था कि रिजल्ट सोमवार सुबह तक आ जाएगा. मगर रिजल्ट में देरी हुई. शाम को 6 बजे के बाद रिज्ल्ट जारी किया गया.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: