फ्लोर टेस्ट में पास हुए कुमारस्वामी, लेकिन कांग्रेस के इस नेता ने उन्हें डरा दिया है!

फ्लोर टेस्ट में पास हुए कुमारस्वामी, लेकिन कांग्रेस के इस नेता ने उन्हें डरा दिया है!

दिल्ली। कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी फ्लोर टेस्ट में पास हो गए। लेकिन उनकी सरकार को खतरा सिर्फ बीजेपी से ही नहीं कांग्रेस से भी है। कांग्रेस के एक बड़े नेता का बयान तो इसी की ओर इशारा करता है। शुक्रवार को कुमारस्वामी ने विश्वास मत हासिल करने के बाद उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हां, खतरा जरूर है।

ये भी पढ़ें: सर्वे: 2019 में भी कायम रहेगा मोदी का जलवा, पीएम की कुर्सी राहुल से अभी दूर

ये भी पढ़ें: कर्नाटक के बाद दिल्ली में ‘फंसेगी’ मोदी की सरकार, जानिए कैसे

हां, खतरा जरूर है

उन्होंने कहा कि हमारे बीजेपी के दोस्त विश्वास मत में हराने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन वे सफल नहीं होंगे। मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि वे यह क्यों नहीं समझ पा रहे हैं कि हर दिन एक सा नहीं होता है।

कुमारस्वामी ने यह भी कहा कि वे अनावश्यक रूप से हमारी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं। मैं पूरे आत्मविश्वास के साथ आप से यह कह सकता हूं कि हम पूरे पांच साल सरकार चलाएंगे। मैं जानता हूं कि कैसे एक स्थिर सरकार देनी है।

ये भी पढ़ें: कर्नाटक फॉर्मूला से देश के 11 राज्यों में 349 सीटों पर बीजेपी को चित कर सकती हैं कांग्रेस

ये भी पढ़ें: कंगाल हो रही है कांग्रेस, 2019 में मोदी से मुकाबला के लिए भी कम पड़ेंगे पैसे!

जी परमेश्वर ने दिया बयान

वहीं, कांग्रेस से उनके मंत्रिमंडल में केवल डॉक्टर जी. परमेश्वर ही शामिल हुए हैं। लेकिन कांग्रेस नेता परमेश्वर ने टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में जो कहा है कि वो कुमारस्वामी के लिए खतरे का संकेत हैं।

जब परमेश्वर ने कहा कि अभी तक पूरे पांच साल के कार्यकाल के लिए सीएम के रूप में कुमारस्वामी को समर्थन देने का फैसला नहीं किया है।

उन्होंने कहा था कि हमारा तत्काल लक्ष्य विश्वास प्रस्ताव को पास कराना है। बाकी चीजों को लेकर अभी गठबंधन में फैसला नहीं हुआ है।

ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि मंत्रालय व विभिन्न मुद्दों को लेकर कांग्रेस व जेडीएस के बीच खटपट हो सकती है। क्योंकि कांग्रेस अपने विधायकों की संख्या ज्यादा होने की वजह से अहम मंत्रालयों की मांग कर सकती है।

साथ ही कांग्रेस ने अभी समर्थन भी सिर्फ बीजेपी की सरकार न बने इसलिए किया है। क्योंकि जेडीएस और कांग्रेस विधानसभा चुनाव अलग-अलग लड़े थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: