‘दीदी’ के हाथ जोड़कर स्वागत का पीएम ने जताया आभार, घायल बच्ची का ऐसे बढ़ाया हौसला

तृणमुल कांग्रेस की बौखलाहट

एटा होबे ना। ….इ ना चोलबे। एइखाने वोटर्स बूझते पारबे ना। लोगों को भले ही टीएमसी कुछ ऐसा समझाने में जुटी हो लेकिन पूरे मिदनापुर में ‘दीदी’ के लगे पोस्टर्स देख प्रधानमंत्री ने टीएमसी को जो समझाया उसने तृणमुल कांग्रेस की बौखलाहट बढ़ा दी है।

तृणमुल कांग्रेस की बौखलाहट

प्रधानमंत्री पहले तो ममता दीदी के गढ़ मिदनापुर पहुंच गए। फिर कृषक कल्याण रैली के नाम पर दीदी के वोटर्स को बांग्ला में रिझाने की कोशिश की। और तो और जनता के अभिवादन के बाद सीधा सीएम पर चुटकी लेने से भी नहीं चूके। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी घबराई हुई हैं लेकिन उनका हाथ जोड़कर स्वागत करने वाले पोस्टर्स के वो आभारी हैं।


दरअसल, पीएम मोदी की रैली स्थल से लेकर पूरे मिदनापुर में टीएमसी ने ममता बनर्जी के पोस्टर लगाए हैं जिसमें ‘दीदी’ हाथ जोड़े दिख रही हैं। हालांकि टीएमसी ने ये पोस्टर्स पीएम मोदी के स्वागत में नहीं लगाए हैं लेकिन पीएम मोदी ने ममता बनर्जी के पोस्टर पर चुटकी जरूर ले ली।

पीएम की इन बातों से बौखलाई टीएमसी ने ट्वीट के जरिेए पीएम को जवाब देने की कोशिश की है। टीएमसी ने ‘फेक वर्सेज फैक्ट’ के तौर पर जो ट्वीट किए हैं उसे आप यहां देख सकते हैं।

ट्वीट 1


ट्वीट 2

ट्वीट 3

ट्वीट 4

पीएम मोदी की रैली


मिदनापुर में पीएम मोदी की रैली के मायने 2019 चुनाव के लिए अभियान की शुरुआत से जोड़कर देखा जा सकता है। यहां पीएम मोदी का पूरा भाषण किसानों के आस-पास ही रहा। उन्होंने फसलों के मिनिमम सपोर्ट प्राइस यानी एमएसपी में इज़ाफे का जिक्र करते हुए कहा कि इससे किसानों की माली हालत सुधरेगी। साथ ही उन्होंने एक बार फिर पोस्टर पर तंज कसते हुए कहा कि उनके स्वागत में लगे ममता बनर्जी के हाथ जोड़े पोस्टर्स किसान भाई-बहनों की विजय है क्योंकि किसानों को लेकर किए गए केंद्र सरकार के बड़े फैसले के बाद टीएमसी को ये पोस्टर्स लगवाने ही पड़े।

आपको बता दें कि साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को यहां महज 2 सीटें मिली थी लेकिन इसबार बीजेपी इसकी संख्या बढ़ाना चाहती है। 2019 चुनाव को लेकर बीजेपी ने 22 सीटों पर जीत का लक्ष्य रखा है, ऐसे में पार्टी अपना वोट बैंक बढ़ाने और टीएमसी के वोट बैंक में सेंध लगाने की पुरजोर कोशिश में है।

हादसे के बाद अस्पताल पहुंचे पीएम


हालांकि पीएम की रैली के दौरान तेज बारिश के चलते वहां लगा एक टेंट भरभरा कर गिर पड़ा। इस हादसे में तकरीबन 22 लोग घायल हो गए। टेंट को गिरता देख प्रधानमंत्री ने अपना भाषण बीच में ही रोक दिया और अपने पास खड़े एसपीजी कर्मियों को तत्काल लोगों की मदद करने को कहा।

आनन-फानन में घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया और प्रधानमंत्री बाद में घायलों का हाल-चाल जानने अस्पताल भी पहुंचे।

इस बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी ट्वीट कर पीएम की रैली में टेंट गिरने से हुए घायलों के प्रति संवेदना जताई। उन्होंने ट्वीट के जरिए जख्मी लोगों के जल्द स्वस्थ होने की ईश्वर से प्रार्थना की और राज्य सरकार की तरफ से हरसंभव मदद का भरोसा जताया।

तृणमुल कांग्रेस की बौखलाहट

मोदी ने घायल युवती का ऐसे बढ़ाया हौसला

रैली के दौरान टेंट गिरने से जख्मी हुए लोगों से मिलने खुद अस्पताल पहुंचे पीएम ने वहां घायलों का हौसला भी बढ़ाया। पीएम ने इसके लिए न सिर्फ आटोग्राफ दिए बल्कि एक घायल बच्ची को पीएम ने कहा कि ‘बहुत हिम्मत है बेटा तुम्हारे में… तुम जल्द ही ठीक हो जाओगी…’।

ममता सरकार पर पीएम का निशाना


रैली के दौरान प्रधानमंत्री ने टीएमसी सरकार और सीएम ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। पीएम ने कहा कि किसानों के लिए किसी ने नहीं सोंचा लेकिन केंद्र सरकार ने अन्नदाता की आमदनी बढ़ाने का काम किया है। पीएम ने टीएमसी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में अब पूजा करना भी मुश्किल हो गया है।

ये भी पढ़ें: शाह और नीतीश में डील-ए-बिहार? डिनर के बाद 15 मिनट की ‘एकांत मुलाकात’

ये भी पढ़ें: ऐन चुनाव से पहले नीतीश के साथ महबूबा मुफ्ती वाला सलूक हो जाए तो…

पीएम ने भ्रष्टाचार का जिक्र करते हुए ममता सरकार को सिंडिकेट भी बता डाला।

उन्होंने कहा कि सिंडिकेट को बिना चढ़ावा चढ़ाए काम कराना भी मुश्किल है। साथ ही पीएम ने केंद्र सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: