वो हाईस्पीड ‘कातिल’ ट्रेन कौन सी थी? जो 10-12 सेकेंड में दर्जनों लोगों को चिरते हुए निकल गई

वो 'कातिल' ट्रेन

दिल्ली। अमृतसर की वो ‘कातिल’ ट्रेन कौन सी है?. कौन सी ट्रेन है? जो 10 से 12 सेकेंड में दर्जनों लोगों को चीरते हुए निकल गई. कौन सी ट्रेन ने जश्न को मातम में बदल दी. कई लोगों को जिंदगी भर के लिए अपंग बना दिया. वो कातिल ट्रेन है जालंधर-अमृतसर डीएमयू. ट्रेन नंबर 74943. हादसे के वक्त ये ट्रेन जालंधर से अमृतसर जा रही थी.

वो ‘कातिल’ ट्रेन

वो हाईस्पीड 'कातिल' ट्रेन कौन सी थी? जो 10-12 सेकेंड में दर्जनों लोगों को चिरते हुए निकल गई

ये भी पढ़ें: अमृतसर रेल हादसा: ‘नरसंहार’ करनेवाली ट्रेन के ड्राइवर ने क्या कहा? जानें

अमृतसर रेल हादसे में 60 से ज्यादा लोगों ने जान गंवाई. जबकि 50 से ज्यादा लोग अस्पतालों में भर्ती हैं. हादसे के वक्त ट्रेन की रफ्तार 91 किलोमीटर प्रति घंटा थी. और वो ‘कातिल’ ट्रेन अमृतसर जा रही थी. लोगों की भीड़ पर जब ड्राइवर की नजर पड़ी तो उसने स्पीड कम करने की कोशिश जरूर की, मगर इतना स्पीड था कि सिर्फ 68 किलोमीटर प्रति घंटा पर ही कर पाया. तब तक काफी देर हो चुकी थी. 10 से 12 सेकेंड में कत्लेआम मच चुका था. जहां लोग खुशियां मना रहे थे वहां मातम का मंजर हो गया. वो ‘कातिल’ ट्रेन ने अपना काम कर दिया था.

10-12 सेकेंड में कत्ल-ए-आम

वो हाईस्पीड 'कातिल' ट्रेन कौन सी थी? जो 10-12 सेकेंड में दर्जनों लोगों को चिरते हुए निकल गई

ये भी पढ़ें: अमृतसर रेल हादसा: ‘रावण’ की भी मौत, मां ने की बहू के लिए नौकरी की मांग

फिरोजपुर डीआरएम के मुताबिक जहां हादसा हुआ, वहां पर मोड़ है. इस वजह से भी ड्राइवर भीड़ को नहीं देख पाया होगा. ऐसे में वो ‘कातिल’ ट्रेन ने मौत का नंगा नाच खेला. जिस रफ्तार से ट्रेन थी उस रफ्तार पर ट्रेन को रोकने के लिए कम से कम 668 मीटर की दूरी होनी चाहिए. अमृतसर मानवला के बीच फाटक नंबर 27 के पास शुक्रवार शाम करीब 7 बजे हादसा हुआ, उस वक्त लोग रावण दहन कार्यक्रम देख रहे थे. चौड़ा बाजार के जोड़ा फाटक के पास जहां रावण दहन हो रहा था वहां पास से ही रेलवे ट्रेक गुजरता है. रावण दहन कार्यक्रम होने की वजह से हजारों लौग मौजूद थे. इनमें करीब 300 लोग रेलवे के पटरी पर थे.

लोग वीडियो बनाने में मशगूल थे

वो हाईस्पीड 'कातिल' ट्रेन कौन सी थी? जो 10-12 सेकेंड में दर्जनों लोगों को चिरते हुए निकल गई

ये भी पढ़ें: अमृतसर रेल हादसा: किस बात की जांच? हमारी गलती नहीं- रेल राज्य मंत्री

लोगों का कहना है कि रेलवे ट्रैक से रावण दहन से अच्छा से दिख रहा था और लोग वीडियो बनाने में मशगूल थे. तभी वो ‘कातिल’ ट्रेन हाईस्पीड से आई और ये दर्दनाक हादसा हो गया. हादसे के बाद पंजाब सरकार ने शिक्षण संस्थाओं और सरकारी दफ्तरों में एक दिन के शोक का एलान किया. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि ‘वो घटना के जांच के आदेश दिए हैं. अभी उन्हें नहीं पता कि रेलवे स्टेशन के बगल में रावण का ये पुतला क्यों बनाया गया था. लेकिन प्रशासन इसे देखेगा, हम इसकी जांच कर रहे हैं’.

मुख्यमंत्री अपना तयशुदा इस्रायल दौरा स्थगित कर दिया है. पंजाब सरकार ने मृतकों के परिजनों के लिए 5-5 लाख रुपए मुआवजे का एलान किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए 2-2 लाख रुपए और घायलों के लिए 50 हजार रुपए सहायता राशि देने का एलान किया.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: