‘BJP के लिए काम करोगे तो यही अंजाम होगा’, हत्या करने के बाद शव के पीठ पर लिखा

'BJP के लिए काम करोगे तो यही अंजाम होगा', हत्या करने के बाद शव के पीठ पर लिखा

दिल्ली। ऐसा लगा रहा है जैसे चुनाव से पहले पश्चिम बंगाल में वर्ग संघर्ष चल रहा है. आदमी की पहचान उसकी सियासी पार्टी से होने लगी है. पार्टियों के कार्यकर्ता एक-दूसरे के खून के प्यासे बन चुके हैं. पुरुलिया में बीजेपी के एक दलित कार्यकर्ता की हत्या कर शव को पेड़ से लटका दिया गया.

शव के पीछे चिपका था पोस्टर

डेड बॉडी के पीछे एक पोस्टर चिपका दिया गया, जिस पर लिखा था कि बीजेपी के लिए काम करने का यही अंजाम होगा. बलरामपुर के सुपढ़िंह में एक पेड़ पर बीजेपी के दलित कार्यकर्ता का शव लटका देखकर इलाके में सनसनी फैल गई.

मतक की पहचान 18 साल के त्रिलोचन महतो के तौर पर की गई. बीजेपी नेताओं का कहना है कि कुछ नकाबपोश लोग उस युवक को जबरन उसके घर से उठाकर ले गए थे.

ये भी पढ़ें: नीतीश जो अंदर-अंदर कर रहे हैं, वो अब बीजेपी को पता चल गया है!

‘विचारधारा की वजह से हत्या’

पूरे मामले पर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है कि पश्चिम बंगाल के बलरामपुर में हमारे युवा कार्यकर्ता त्रिलोचन महतो की क्रूर हत्या से गहरा दुख पहुंचा है.

राज्य के संरक्षण में संभावनाओं से भरा एक युवा जीवन क्रूरता के साथ खत्म कर दिया गया. उसे पेड़ पर फांसी दी गई, क्योंकि उसकी विचारधारा राज्य की प्रायोजित गुंडों से अलग थी.

ये भी पढ़ें: चुनाव से पहले फिर खुला ‘स्पेशल का बाजार’, समझिए यू-टर्न पॉलिटिक्स का ‘राज़’

पंचायत चुनाव बनी हत्या की वजह?

पुरुलिया के स्थानीय बीजेपी नेताओं का दावा है कि हालिया पंचायत चुनाव में बीजेपी की ओर से त्रिलोचन की सक्रिय भागीदारी के कारण ही उसकी हत्या की गई. उसकी लाश के पीछे एक पोस्टर भी चस्पा कर दिया गया. पोस्टर पर लिखा था कि कम उम्र में बीजेपी के लिए काम करने का यही अंजाम होगा.

टीएमसी पर हत्या का आरोप

इस घटना की खबर फैलते ही स्थानीय लोगों के साथ-साथ बीजेपी कार्यकर्ताओं ने भी हंगामा शुरू कर लिया. पुलिस से भी कहासुनी हुई. वे त्रिलोचन के कातिलों को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे.

बाद में किसी तरह पुलिस ने मामले को शांत कराया. बीजेपी कार्यकर्ता का शव अपने कब्जे में ले पाई. हाल में हुए पंचायत चुनाव में यहां पर बीजेपी ने अच्छा प्रदर्शन किया था.

बीजेपी कार्यकर्ता के हत्या को इसके बदले की कार्रवाई के तौर पर देखा जा रहा है. पुरुलिया एसपी के मुताबिक हत्या का मामला दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है. बीजेपी के पुरुलिया जिलाध्यक्ष ने हत्या के लिए टीएमसी को जिम्मेदार ठहराया है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: