अब स्मार्ट बनेंगे बिहार के गांव, जानिए पंचायती राज विभाग किस तरह की देगा सुविधाएं

0
39
bihar villages

बिहार के गांवों को स्मार्ट बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। शहरों की तर्ज पर गांवों (bihar villages) में पार्क बनेंगे और सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जाएंगे। गांवों में सुरक्षा के लिहाज से सीसीटीवी कैमरे लगाने का पंचायती राज विभाग ने फैसला लिया है।

स्मार्ट होंगे Bihar Villages

दरअसल, बिहार में लंबे समय से गांवों (bihar villages) में सीसीटीवी कैमरे लगाने की मांग उठ रही थी। बजट सत्र के दौरान भी कई विधायकों और विधान पार्षदों ने सरकार के सामने ये मांग रखी थी। इसके बाद ही पंचायती राज विभाग ने सीसीटीवी कैमरे लगवाने और पंचायतों के सौंदर्यीकरण का फैसला लिया है।

सुरक्षा के लिए CCTV कैमरा

British Lingua वाले बीरबल झा का नाम बिहार के ‘स्पोकेन इंग्लिश…

पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने मीडिया से कहा कि सीसीटीवी की मदद से अपराध नियंत्रण में मदद मिलेगी। अपराधी और शरारती तत्वों पर भी इन कैमरों से नजर रखी जाएगी। शहरों वाली सुविधा गांव (bihar villages) में मुहैया कराने के लिए और भी कई फैसले लिए गए हैं।

उन्होंने कहा कि 15वें वित्त आयोग की अनुशंसा के तहत केंद्र सरकार ने पंचायती राज विभाग को बकाया 1 हजार 254 करोड़ रुपए भेज दी है। वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए 3 हजार 763 करोड़ रुपए पहले ही मिल चुके हैं।

पार्क और बड़े नाले भी बनेंगे

Bihar Police के बेड़े में जल्द दिखेंगी लग्जरी गाड़ियां, अपाचे, अर्टिगा…

मंत्री जी ने कहा कि इस राशि से गांवों (bihar villages) में सीसीटीवी कैमरे लगाने के साथ साथ, वहां पार्क भी बनाए जाएंगे। जहां भी सरकारी खाली जमीन होगी, वहां पार्क का निर्माण कराया जाएगा। साथ ही खेल का मैदान भी बनेगा। सामुदायिक शौचालय भी पंचायतों में बनाया जाएगा। इस राशि से छठ घाटों का सौंदर्यीकरण भी किया जाएगा।

ग्रामीण इलाकों में जलजमाव की स्थिति भी बनी रहती है। उससे निजात के लिए बड़े नालों का निर्माण कराया जाएगा। सभी फैसलों को ग्राउंड तक ले जाने के लिए जल्द ही जिलों को निर्देश दिया जाएगा।

पहले चरण में 8300 गांव

Nepali Bride: नहीं मिली अनुमति तो बाइक से नदी पार कर नेपाल से दुल्हन विदा कराया दूल्हे ने

नीतीश कुमार की सरकार अब ग्रामीण इलाकों की सुरक्षा को भी दुरुस्त करने वाली है। बिहार के गांव (bihar villages) अब सीसीटीवी कैमरों की जद में होंगे। शहरों की तर्ज पर गांवों में भी सुरक्षा को पुख्ता बनाने की तैयारी शुरू कर दी गई है।

पहले चरण में राज्य की 8 हजार 300 गांवों का सौंदर्यीकरण कर उन्हें स्मार्ट बनाया जाएगा। इसके लिए काम जल्द शुरू होगा। वित्त आयोग की अनुशंसा से त्रिस्तरीय पंचायतों को टाइट और अनटाइड फंड के रूप में राशि देने के साथ ही उसके खर्च करने का प्रावधान किया जाता है।

खेल का मैदान भी बनेगा

‘Gunjan Saxena: द कारगिल गर्ल’ की गुंजन को आप कितना जानते हैं? ओरिजनल को जानिए

मंत्री ने कहा कि टाइड फंड की राशि से पंचायतों में सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। इसका नियंत्रण कक्ष पंचायत सरकार भवन या पंचायत के कार्यालय में होगा। अनटाइड फंड की राशि से पंचायतों में खेल का मैदान और बाल उद्यान बनवाए जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.