‘किंग ऑफ गुड टाइम्स’ का बैड टाइम शुरू, माल्या के बाद अगला कौन?

0
79
vijay mallya

किंग ऑफ गुड टाइम्स कहे जाने वाले विजय माल्या (vijay mallya) का बुरा वक्त शुरू हो गया लगता है। शानो-शौकत की जिंदगी, महंगी-मंहगी गाड़ियां और रंगीन मिजाजी के लिए मशहूर माल्या की दाल अब गलती नहीं दिख रही। भारत के बैंकों से 9 हजार करोड़ रुपये का कर्ज लेकर फरार माल्या के प्रत्यर्पण की इजाज़त ब्रिटेन के गृह मंत्रालय ने दे दी है।

विजय माल्या का टाइम ओवर!

हालांकि माल्या ने ट्वीट के जरिए प्रत्यर्पण की इजाज़त को कोर्ट में चुनौती देने की जानकारी दी है। लेकिन देश के हजारो करोड़ रुपए लेकर चंपत माल्या के लंदन में छिपकर बचने की जुगत पर फिलहाल पानी पड़ता दिख रहा है। माल्या (vijay mallya) ने ट्वीट कर लिखा है कि –

”निचली अदालत के 10 दिसंबर, 2018 के फ़ैसले के बाद ही मैंने इसे चुनौती देने की मंशा जता दी थी। लेकिन गृह मंत्री के फ़ैसले के पहले मैं अपील की कार्रवाई नहीं कर सकता था। अब मैं अपील की कार्रवाई करूंगा.” – विजय माल्या

मई तक भारत लाए जा सकते हैं माल्या

माल्या के प्रत्यर्पण में अभी भी कई अड़चने हैं। लेकिन अगर सबकुछ सही रहा तो माल्या को मई 2019 से पहले प्रत्यर्पित कर भारत लाया जा सकता है। अगर माल्या भारत आ गया तो ये मोदी सरकार की बड़ी कूटनीतिक जीत होगी।

विजय माल्या पर 6 आरोप

भगोड़े कारोबारी विजय माल्या (vijay mallya) पर फिलहाल छह आरोप हैं। इनमें मनी लॉन्ड्रिंग, लोन की रकम डायवर्ट करना, वित्तीय लेन-देन में हेराफेरी, शेयरों की राउंड ट्रिपिंग और सर्विस टैक्स नहीं चुकाने जैसे मामले शामिल हैं। माल्या के केस को प्रवर्तन निदेशालय, सीबीआई और आयकर विभाग समेत कई जांच एजेंसियां देख रही हैं।

read more: मुकेश अंबानी से भी ज्यादा की संपत्ति तलाक में खो देगा…

कारोबारी विजय माल्या पर भारतीय बैंकों का 9 हजार करोड़ बकाया है। इसमें एसबीआई का सबसे ज्यादा 16 सौ करोड़ रुपये बकाया है जबकि IDBI-PNB बैंक का 800 करोड़। वहीं बैंक ऑफ इंडिया के 650 करोड़ और बैंक ऑफ बड़ौदा के 550 करोड़ रुपये माल्या पर बकाया हैं।

विजय माल्या (vijay mallya) के भारत लाए जाने के बाद देश का पैसा लूटकर विदेशों में बसे नीरव मोदी, मेहुल चौकसी जैसों पर भी शिकंजा कसेगा और उनके भारत लाने का रास्ता साफ हो सकेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.