कोरोना की वजह से तनाव में हैं ! हार्ट अटैक होने का है खतरा

कोरोना वायरस की वजह से हर कोई एक भय के माहौल का सामना कर रहा है। स्पष्ट है कि इससे तनाव के स्तर में काफी वृद्धि हुई है। लेकिन क्या आपको मालूम है कि ये तनाव आपके लिए जानलेवा साबित हो सकती है। जिसकी वजह कोरोना वायरस संक्रमण नहीं बल्कि कुछ और है।

2
176
Heart Attack

कोरोना वायरस की वजह से हर कोई एक भय के माहौल का सामना कर रहा है। स्पष्ट है कि इससे तनाव के स्तर में काफी वृद्धि हुई है। लेकिन क्या आपको मालूम है कि ये तनाव आपके लिए जानलेवा (Heart Attack) साबित हो सकती है। जिसकी वजह कोरोना वायरस संक्रमण नहीं बल्कि कुछ और है।

अगर आपको लगता है कि कोविड से संक्रमित होने के तनाव एक सीमित दायरे में है तो यहां आप काफी गलत सोच रहे हैं। विशेषज्ञ कहते हैं कि COVID ​​-19 से संबंधित तनाव भी खतरनाक है। ये न सिर्फ हृदय की समस्या को उजागर करता है, बल्कि पहले से बीमार लोगों में इससे हार्ट अटैक भी हो सकता है।

क्यों है चिंता का विषय

Must Read: गर्म पानी पीने से शरीर में क्या-क्या होते हैं बदलाव? जानना बेहद जरूरी

जब से COVID-19 का पहला मामला सामने आया था। तब से वैज्ञानिक हमारे शरीर पर वायरल संक्रमण के कई अलग-अलग तरीकों को समझने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि, जेएएमए (जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन) में प्रकाशित एक नए अध्ययन में पता चला है कि बीमार दिल के सिंड्रोम के समान लक्षणों के साथ (Heart Attack) लोग अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं।

क्या यह दिल के दौरे से अलग है?

Must Read: घर-घर फ्री बांटे जा रहे कंडोम, लॉकडाउन के बाद जनसंख्या न बन जाए मुसीबत

दिल के दौरे और ‘टूटे हुए दिल’ के बीच एकमात्र वास्तविक अंतर यह है कि जब खून धमनियों के रुकावट की ओर जाता है, दिल का दौरा पड़ने की तरह महसूस होता है। इसमें छाती में दर्द, सांस की तकलीफ, पसीना आना शामिल है। अतालता, झटका, थ्रस्टिंग की बेचैनी और अनियमित दिल की धड़कन भी इस स्थिति का एक लक्षण हो सकता है। इससे आप बहुत आसानी से प्रभावित हो सकते हैं, भले ही आपके पास हृदय की समस्याओं (Heart Attack) का कोई इतिहास न हो।

क्या यह COVID-19 से संबंधित है ?

हालांकि यह आमतौर पर दर्दनाक स्थितियों का परिणाम होता है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोविड​​-19 द्वारा लाया गया अनिश्चितता और तनाव किसी भी रूप में दर्दनाक है। इसके लिए शोधकर्ताओं ने संक्रमण के चरम के दौरान महामारी की शुरुआत से आठ सप्ताह पहले और आठ सप्ताह बाद के अस्पताल में भर्ती मरीजों के मामले के इतिहास की तुलना की। जिसके परिणाम महामारी के पांचवें सप्ताह की शुरुआत में हार्ट अटैक (Heart Attack) संबंधित मामले अधिक देखे गए।

तनाव को अनदेखा न करें

शोध में कहा गया है कि ऐसे में हार्ट अटैक’ (Heart Attack) जैसी स्थिति स्वास्थ्य के खतरे को उत्पन्न कर सकती है। जिसको नजरअंदाज करना जान को जोखिम में डालना है। इसलिए जरूरी इस बात की है कि ऐसे नतीजों से बचने के लिए किसी भी तरह के तनाव का सबसे पहले उपचार किया जाना चाहिए।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.