कोरोना के खिलाफ युद्ध में ओडिशा का KIIT विश्वविद्यालय मोर्चे पर सबसे आगे, क्योंकि मुस्कान जरूरी है

0
41
kiit kiss kims kiit tbi project kawach odisha corona kalinga

ओडिशा। कोरोना संकट में प्राइवेट संस्थान भी आगे आए हैं. कलिंगा इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी, (KIIT) भुवनेश्वर और उसकी सहयोगी संस्थान कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (KISS) के संस्थापक प्रोफेसर अच्युता सामंत आगे आए हैं…उनके प्रयास से कोविड-19 महामारी के प्रकोप से प्रभावित लोगों तक राहत पहुंचने और सही उपचार पहुंचाया जा रहा है. इस पर लगातार काम भी चल रही है.

KIIT और KISS ने पेश की मिसाल

डीम्ड विश्वविद्यालय KIIT एक मशहूर संस्थान है. भारत सरकार से मान्यता प्राप्त भी है. इसमें देश के कई राज्य साथ ही 50 के आसपास देशों से लगभग 30 हजार छात्र और छात्राएं पढ़ते हैं. KIIT के सहयोगी संस्थान KISS जो देश का पहला और एकलौता आदिवासी विश्वविद्यालय है..इसमें करीब 30 हजार असहाय और विशेषकर आदिवासी बच्चे पढ़ते हैं. ये बच्चे केवल ओडिशा के ही नहीं बल्कि पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़, झारखंड और नॉर्थ ईस्ट के भी हैं. KISS में सभी बच्चे फ्री में एजुकेशन लेते हैं, संस्थान इनसे एक पैसा भी नहीं लेता है. और यह पूरी तरह से आवासीय यूनिवर्सिटी है.

बड़ी-बड़ी बातें करने वाले संदीप माहेश्वरी को कितना जानते हैं? आजकल चर्चा में क्यों हैं?

कोरोना के चलते जैसे ही संपूर्ण लॉक डाउन की भनक संस्थान की संस्थापक प्रोफेसर अच्युता सामंत को लगी उन्होंने सभी बच्चों को सुरक्षित अपने-अपने घरों पर वापस भेज दिया था. पूरे लॉकडाउन के दौरान इन सारे बच्चों को किसी भी तरह का शैक्षणिक नुकसान का सामना नहीं करना पड़ा. क्योंकि KIIT देश का पहला ऐसा संस्थान है जो अपने सारे बच्चों को ऑनलाइन के जरिए ही बच्चों को घर बैठे ही पढ़ाना शुरू किया और अब तक बिना रुके चल रहा है. कुछ इसी तरह ही KISS के सारे बच्चों को भी कलिंग टेलीविजन के माध्यम से ई-लर्निंग की क्लास हर रोज संचालित की जा रही है. साथ ही बच्चे व्हाट्सएप के माध्यम से भी शिक्षकों के साथ लगातार संपर्क में है.

KISS का ‘प्रोजेक्ट उदय’ क्या है?

KISS इन दिनों किश अपने ‘प्रोजेक्ट उदय’ के तहत ओडिशा के 6 सबसे पिछड़े जिले से रायगड़ा, मलकानगिरी, कंधमाल, बलांगिर, कोरापुट और गजपति जिलों के लोगों में कोरोना महामारी से निजात पाने के उपाय जैसे 2 गज की दूरी बनाए रखना, मास्क का हमेशा इस्तेमाल करना, हमेशा हाथ धोना और अपने आसपास हर हमेशा स्वच्छता बनाए रखने को लेकर बड़े पैमाने पर एक जागरूकता अभियान का चलाया जा रहा है. इस परियोजना में 500 से अधिक स्वयंसेवक इन सभी जिलों के 220 गांव में स्वच्छता अभियान चला रहे हैं.

रूस वाली कोरोना वैक्सीन आपको कैसे मिलेगी? जानिए हर सवाल का जवाब

ओडिशा की अगर बात की जाए तो कोविड-19 के खिलाफ इस मुहिम की अगुवाई KIIT के ही एक महत्वपूर्ण सहयोगी संस्थान KIMS ‘कलिंगा इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस’ जो एक मेडिकल कॉलेज है. इसने ओडिशा सरकार के सहयोग से कोरोना मरीजों के लिए 50 ‘क्रिटिकल केयर बेड्स’ सहित 500 बिस्तर वाला भारत का पहला अत्याधुनिक स्वचालित सुविधा केंद्र स्थापित किया है. इसके अलावा KIIT यूनिवर्सिटी ने ओडिशा के कंधमाल, बलांगिर और मयूरभंज जिलों में 200 बेड वाला तीन स्पेशल अस्पताल तैयार चला रहा है.

KIMS को मिली ‘कवच’ की जिम्मेदारी

कोरोना महामारी में इतने कम समय में अस्पतालों के निर्माण से KIMS को राज्य और केंद्र सरकार ने तारीफ की. भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग ने औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों समेत भारत के दूसरे प्रतिष्ठित संस्थानों के साथ KIIT स्कूल ऑफ़ बायोटेक्नोलॉजी के तहत KIIT के और एक सहयोगी संस्थान KIIT टेक्नोलॉजी बिजनेस इनक्यूबेटर (KIIT-TBI) को कोविड-19 संकट के साथ युद्ध विस्तार केंद्र (CAWACH) ‘कवच’ के रूप में मान्यता दी गई है. पूर्व और पूर्वोत्तर में इस कार्यक्रम के लागू कराने की जिम्मेदारी KIIT-TBI को दी गई है.

ईडी, सीबीआई, मुंबई पुलिस, पटना पुलिस से डर नहीं लगता साहब, मीडिया से लगता है

कोविड-19 महामारी न केवल एक वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल है बल्कि लंबे समय तक लॉकडाउन और लाखों लोगों की आजीविका के कारण यह एक गंभीर मानवीय संकट भी है. मानवता की दृष्टि से KIIT द्वारा इस कोरोना काल में कोरोना से मृत्यु हो चुके परिजनों के बच्चों को KIIT और KISS में मुफ्त शिक्षा दी जाएगी. यह सुविधा दो शैक्षणिक वर्षो 2020-2021 और 2021-22 के लिए उपलब्ध होगी.

विदेशों से मिली KIIT-KISS की तारीफ

एक सहायता की ओर हाथ बढ़ाते हुए इन दिनों की विश्वविद्यालय उनलोगों के पास पहुंच रही है जो बार-बार लॉकडाउन बढ़ाए जाने के कारण मुश्किल दौर से गुजर रहे थे. कोरोना महामारी के कारण झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले वंचित लोगों, फंसे हुए प्रवासी मजदूरों और कंटेनमेंट जोन में रहने वाले लगभग 3 लाख से ज्यादा लोगों को खाद्य सामग्री और आवश्यक वस्तुओं का वितरण करने के साथ-साथ उन्हें अस्थाई आश्रय भी प्रदान कराया गया है. लॉकडाउन के दौरान अपने मेहनत और तत्परता के कारण KIIT विश्वविद्यालय राजधानी भुवनेश्वर, पूरी और कटक जिले में ड्यूटी में तैनात पुलिसकर्मियों को पका हुआ भोजन पहुंचाने की भी पहल की. ओडिशा और आसपास के राज्यों में फंसे हुए सैकड़ों मजदूरों और कर्मियों की निकासी में KISS विश्वविद्यालय ने अमेरिकी दूतावास के साथ मिलकर काफी सराहनीय काम किया है.

अन्य सामुदायिक गतिविधियों के तहत ओडिशा के चंद्रगिरी इलाके में तिब्बती आबादी और जिरांग में पद्यसंभव मठ में 1 महीने की खाद्य आपूर्ति की गई थी, साथ ही चंद्रगिरी में दो वृद्धाश्रम को गोद लिए जाने का प्रावधान किया गया है. इन दिनों KISS विश्वविद्यालय जिरांग में एक अस्पताल को सहयोग कर रहा है और स्वास्थ्य कर्मियों को PPE किट उपलब्ध करा रहा है. इसके अतिरिक्त KIIT और KISS विश्वविद्यालय कंधमाल जिले के 40 से अधिक अनाथालय, वृद्ध आश्रम और कुष्ठ सेवा आश्रम को खर्च के लिए नगदी एवं किराने का सामान मुहैया करा रहा है.

जानवरों का भी रखा गया ख्याल

राजधानी भुवनेश्वर के दूरदराज इलाकों में KIIT और KISS विश्वविद्यालय जरूरतमंदों के लिए सहायता का हाथ बढ़ाया है, उन्हें किराने के सामान के अलावा अन्य जरूरी चीजें मुहैया कराया गया है. KIIT और KISS विश्वविद्यालय साथ ही देश के जानेमाने उद्योगपति अजीम प्रेमजी के सहायता से ओडिशा के भुवनेश्वर और रायगड़ा जिलों में किन्नर समुदाय के लिए राशन और आवश्यक सामानों का वितरण करने के लिए आगे आए.

KIIT और KISS विश्वविद्यालय परिसर के आसपास के इलाकों में बंदरों, मवेशियों और कुत्तों जैसे जानवरों को बिस्किट, फल, सब्जी और अन्य खाद्य सामग्री बांटने के लिए एक टीम का भी गठन किया गया था, जो हर रोज इन जानवरों को खाना खिलाता था. यह टीम परिसर के आस पास के जंगल झाड़ियों में बसने वाले 140 के आसपास मोर पक्षियों की भी देखभाल कर रहे हैं. और तो और पूरी, भुवनेश्वर और कटक जिले के 10 गौशालाओं में आर्थिक सहायता प्रदान कर रहे हैं.

चेहरों पर मुस्कान लाना उद्देश्य

कोविड-19 महामारी वर्तमान समय का सबसे गंभीर विश्वस्तरीय स्वास्थ्य संकट है और यह कठिन चुनौतियों से भरा हुआ है. महामारी ने अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका देते हुए विश्व के लगभग सभी देशों में आर्थिक संकट पैदा कर दिया है. महामारी एक प्रकार से मानव कर (Human Toll) वसूल रहा है. KIIT और KISS के संस्थापक प्रोफेसर अच्युता सामंत का कहना है ‘कोरोना काल में हमारा यह छोटा सा प्रयास अथाह सागर की एक बूंद के समान है जबकि हमारा लक्ष्य और उद्देश्य उन सभी के चेहरों पर मुस्कान लाना है जहां तक हम पहुंच सकते हैं. मुझे पूरा विश्वास है कि हम एकजुट होकर इस गंभीर महामारी संकट को दूर कर सकेंगे.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.