मेजर की बीवी के मर्डर के आरोप में मेजर गिरफ्तार, प्रेम संबंध में कत्ल की आशंका

मेजर की बीवी के मर्डर के आरोप में मेजर गिरफ्तार, प्रेम संबंध में कत्ल की आशंका

दिल्ली। मेजर की पत्नी की हत्या मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. हत्या के पीछे लव एंगल का पता चला है. पुलिस ने हत्या के आरोप में दूसरे मेजर को गिरफ्तार किया है. आरोपी निखिल हांडा को उत्तर प्रदेश के मेरठ से गिरफ्तार किया गया.

मृतका के मोबाइल फोन की जांच की गई तो आखिरी कॉल डिटेल निखिल हांडा का निकला. इसके आधार पर पुलिस ने मेजर निखिल हांडा को गिरफ्तार किया.

कैंट मेट्रो स्टेशन के पास हुई थी हत्या

दिल्ली पुलिस की जांच में मेजर की पत्नी के दूसरे मेजर से प्रेम-प्रसंग होने की बात सामने आ रही है. पुलिस से पूछताछ में मेजर अमित द्विवेदी ने अपनी पत्नी का एक दूसरे मेजर निखिल हांडा से संबंध होने का शक जताया था. अमित ने बताया था कि दिल्ली आने से पहले दीमापुर में उनकी पोस्टिंग थी.

यहां पर उनकी पत्नी की नजदीकियां एक दूसरे मेजर निखिल से बढ़ गई थी. दिल्ली आने के बाद भी उनकी पत्नी की उस मेजर से बातचीत होती थी. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है. शनिवार को वेस्ट दिल्ली के कैंट मेट्रो स्टेशन के पास दिनदहाड़े मेजर की पत्नी की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी.

ये भी पढ़ें:

खुलासा: दाती ही नहीं, उनके तीन भाइयों ने भी युवती से किया ‘पाप’

सफरनामा: चाय की दुकान पर काम करनेवाला मदन कैसे बना दाती महाराज…

मर्डर के बाद शव पर गाड़ी क्यों चढ़ाई?

मौका-ए-वारदात पर महिला के कपड़े फटे हुए थे. जांच में पता चला कि हत्या के बाद शव पर गाड़ी भी चढ़ाई गई थी. शाम के समय घटना से अनजान महिला के पति मेजर अमित द्विवेदी अपनी पत्नी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने थाने पहुंचे. उन्होंने मृतका की पहचान शैलजा द्विवेदी के रुप में की. जिनकी उम्र 32 साल थी. कैंट मेट्रो स्टेशन के पास गला रेतकर हत्या के बाद मेजर की पत्नी के शव पर कार भी चढ़ाई थी.

पुलिस को घटनास्थल से टायरों के निशान मिले हैं, जिसपर खून लगा था. हत्या करने के बाद जब शव पर कार चढ़ाई गई तो उसके निशान कुछ मीटर तक बन गए. हाईप्रोफाइल मर्डर केस होने की वजह से सीनियर पुलिस अफसर ने एफएसएल की टीम के अलावा क्राइम टीम को भी मौके का मुआयना करने के लिए बुलाया. टीम ने काफी बारीकी से सूबत जुटाए. पुलिस का अधिकारियों का कहना है कि हत्यारा परिवार का काफी करीबी है.

अस्पताल के बहाने घर से निकली थी शैलजा

पुलिस के मुताबिक मेजर का ड्राइवर सरकारी गाड़ी से शैलजा को लेकर आरआर अस्पताल पहुंचा था. उसने शैलजा को अस्पताल के गेट पर छोड़ा इसके बाद वो चला गया. इधर शैलजा अस्पताल में दाखिल ही नहीं हुई, बल्कि वो किसी दूसरी कार से चली गई. कुछ देर बाद जब ड्राइवर शैलजा को लेने पहुंचा तो पता चला कि वो अस्पताल आई ही नहीं थी.

ड्राइवर ने मेजर को सूचना दी. शैलजा का फोन भी बंद आ रहा था. तब शाम को मेजर अमित ने थाने पहुंच कर गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई. जबकि पुलिस को दोपहर में ही शैलजा का शव मिला था. पुलिस के मुताबिक हत्या से पहले गुत्मगुथी भी हुई थी. इतनी बेरहमी से हत्या क्यों की गई? हत्या के बाद शव पर कार क्यों चढ़ाई गई? उसके कपड़े क्यों फाड़े गए? पुलिस को इन सवालों पर से पर्दा उठाने हैं.

2 Comments

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: