बिहार का केजरीवाल बनने की राह पर प्रशांत किशोर?, ‘गांव में फोन करके बता देना…’

1
200
bihar elections kejriwal gave hints after oath aap can try its luck

पटना। बिहार (Bihar) की राजनीति में प्रशांत किशोर किस भूमिका में होंगे? क्या प्रशांत किशोर बिहार की राजनीति में अरविंद केजरीवाल बनने की राह पर हैं? आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में लगातार तीसरी बार प्रचंड जीत दर्ज की. अरविंद केजरीवाल भी पार्टी का विस्तार चाहते हैं. केजरीवाल को दिल्ली का ताज वापस पाने में प्रशांत का साथ खूब भाया.

Bihar को केजरीवाल ने क्यों चूना?

दरअसल शपथ ग्रहण के दौरान अपने 20 मिनट की भाषण में अरविंद केजरीवाल ने कुछ बातें कही, जिससे कयास लगाए जा रहे हैं. भाषण के दौरान करीब 2 मिनट तक दिल्ली वालों को धन्यवाद बोलने के बाद सीएम केजरीवाल ने कहा कि ‘सब लोग अपने-अपने गांव (Bihar) में फोन करके बता देना, हमारा बेटा सीएम बन गया, अब चिंता की बात नहीं है’.

प्रशांत किशोर को ममता सरकार ने दी ‘जेड’ श्रेणी की सुरक्षा, अब बेफिक्र रहेंगे PK

सीएम केजरीवाल की ओर से कही बात का मायने निकाला जाए तो साफ है कि उनका अगला फोकस बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar) है. हाल फिलहाल में बिहार (Bihar) में ही चुनाव है. दिल्ली में बिहार (Bihar) के लोगों की अच्छी खासी आबादी है. दिल्ली में 15 से 18 लाख लोग बिहार के रहते हैं.

केजरीवाल का प्रशांत पर दांव?

सीएम केजरीवाल अपने भाषण के जरिए इन्हीं लोगों को संदेश दे रहे थे कि वे अपने घरों में दिल्ली में हुए कामों के बारे में बताएं. ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी बिहार चुनाव (Bihar) में भाग्य आजमाने की तैयारी में है. नीतीश कुमार से अनबन के बाद प्रशांत किशोर भी जेडीयू से बाहर हैं. अब राजनीति गलियारे में चर्चा है कि आम आदमी पार्टी प्रशांत किशोर को बिहार फेस (Bihar) बनाकर विधानसभा चुनाव में उतर सकती है.

अब योद्धा की तरह सियासी मैदान में उतरेंगे प्रशांत किशोर, पटना में दिखेगा नया अवतार

तीसरी जीत से उत्साहित केजरीवाल

इस बार प्रशांत ने दिल्ली में आप के लिए काम किया था. दिल्ली में लगातार तीसरी बार जीत से उत्साहित आप, अब बिहार (Bihar) में नए प्रयोग करना चाह रही है. उस खाका में प्रशांत किशोर फिट बैठते हैं. बिहार में कोई भी पार्टी अपने दम पर सरकार नहीं बना सकती है. न तो बीजेपी, न जेडीयू और ना ही आरजेडी. इनमें से 2 पार्टियां जिसके साथ आएगी सरकार उसी की बनेगी. आम आदमी पार्टी भली-भांति समझती है कि अगर बिहार (Bihar) में कोई तीसरा मजबूत विकल्प दिया जाए तो यहां बदलाव दिख सकता है.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.