कोरोना: मोदी सरकार का ‘डबल डेकर’ रेस्क्यू जारी, मानेसर में क्वारंटाइन सेंटर

1
48
rescue army set up corona center manesar students from china will be investigated

दिल्ली। चीन के वुहान में फंसे भारतीय छात्रों को सुरक्षित भारत लाने (Rescue) के लिए मोदी सरकार का डबल डेकर रेस्क्यू जारी है। कोरोना वायरस के चलते इंटरनेशनल इमरजेंसी घोषित होने के बाद तकरीबन 400 भारतीय छात्र और नागरिक वुहान में फंसे हैं।

Rescue क्यों है खास?

मोदी सरकार के रेस्क्यू अभियान (Rescue) के तहत आज पहली विशेष उड़ान ने दिल्ली के T3 टर्मिनल से चीन के लिए उड़ान भरी। डबल डेकर जम्‍बो विमान बी 747 को इस रेस्क्यू ऑपेरशन के लिए तैनात किया गया है। ये उड़ान वुहान (चीन) से लौट सकती है। इस डबल डेकर विमान में 423 सीटें हैं।

Corona virus से बच के! हाथ मिलाना भी खतरनाक, अब तक 212 की गई जान

इस उड़ान में राम मनोहर लोहिया अस्‍पताल यानी आरएमएल से 5 डॉक्‍टर्स की टीम (Rescue) और एयर इंडिया का पैरामेडिकल स्‍टाफ भी शामिल हैं। साथ ही ये विमान मास्‍क, ओवरकोट, पैक्‍ड भोजन से भी लैस है।

लड़की के चमगादड़ खाने से दुनिया में फैला जानलेवा कोरोना वायरस!

एहतियातन इस विमान में सेवाएं नहीं जाएंगी और उड़ान के दौरान (Rescue) परोसा जाने वाला भोजन भी पहले से ही सीट पर पॉकेट्स में रखा होगा। केबिन स्टाफ और यात्रियों के बीच भी किसी तरह का कोई इंट्रैक्शन नहीं होगा।

एक उड़ान आज भी

इस रेस्क्यू ऑपेरशन (Rescue) के लिए विदेश मंत्रालय ने चीन सरकार से दो विमानों को भेजने की अनुमति मांगी थी। चीन से हरी झंडी मिलने के बाद इस ऑपेरशन की शुरुआत हुई। कल सुबह एक और विमान वुहान के लिए रवाना होगी।

सेना ने बनाया क्वारंटाइन सेंटर

चीन में फंसे लोगों को भारत लाए जाने के बाद संक्रमण रोकने के लिए इन्हें 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन (Rescue) में रखा जाएगा। इसके लिए गुरुग्राम के मानेसर में सेना ने विशेष तौर पर क्वारंटाइन सेंटर बनाया है, जहां इन छात्रों को निगरानी में रखा जाएगा और टेस्ट किये जायेंगे।

चीन से भारत पहुंचा कोरोना वायरस?, 20 हजार की जांच, 11 अस्पताल में

ताजा जानकारी मिलने तक इस वायरस (Rescue) से 210 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस से तकरीबन 7700 लोग संक्रमित पाए गए हैं। भारत में अभी तक केरल में कोरोना के एक मरीज की पुष्टि हुई है जबकि रांची में कोरोना का एक संदिग्ध मिला है।

एयर इंडिया मदद में आगे

ये पहला मौका नहीं है जब एयर इंडिया मदद के लिए आगे आई है। (Rescue) इससे पहले भी एयर इंडिया ने संकट के दौरान लीबिया, इराक, यमन, कुवैत और नेपाल से भी लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला है।

चीन में फैले कोरोना वायरस से भारत के हवाई अड्डों पर अलर्ट, क्या है लक्षण और कैसे करें बचाव

अगस्‍त 1990 में, एयर इंडिया ने इराक और कुवैत से 1 लाख से भी ज्यादा लोगों को सुरक्षित बाहर (Rescue) निकाला था। इसके लिए 59 दिनों में 488 उड़ानों का परिचालन किया गया था। साल 1948-49 के बाद वायु परिवहन के माध्‍यम से किया गया ये सबसे बड़ा बचाव अभियान था।

एयर इंडिया ने 2015 में यमन में ऑपरेशन (Rescue) राहत चलाया और 2011 में सेफ होम‍कमिंग अभियान को सफलतापूर्वक पूरा किया था। एयर इंडिया ने देश में आई आपदाओं जैसे भुज भूकम्‍प, जम्‍मू-कश्‍मीर, लेह, चेन्‍नई और उत्‍तराखंड की बाढ़ के अलावा अंडमान-निकोबार में सुनामी के वक्त भी जमकर मदद की थी।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.