चुनावी दौरे में तेलंगाना पहुंची सोनिया का ‘तिलक अवतार’, खूब जुटी भीड़

तेलंगाना: कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस के मौजूदा अध्यक्ष राहुल गांधी की मां सोनिया गांधी। तेलंगाना में चुनावी रैली को संबोधित करती कांग्रेस दिग्गज सोनिया गांधी या फिर भाषण से पहले स्वागत के लिए खड़ी पूर्व आलाकमान सोनिया गांधी। ये जो भी सोनिया गांधी थीं, इनका तिलक अवतार काफी कुछ कह गया।

सोनिया का ‘तिलक अवतार’

सोनिया का 'तिलक अवतार'

ये कोई साधारण तिलक नहीं था। जो स्वागत के दौरान नहीं दिखा लेकिन जब सोनिया मंच से लोगों को संबोधित करती दिखीं तो उनके ललाट पर ये तिलक विराजमान था, गले में माला और रैली मेें ठेलमठेल भीड़।

सोनिया का 'तिलक अवतार'

तेलंगाना कांग्रेस के ऑफिसियल ट्वीटर हैंडल पर जो तस्वीर डाली गई है उसमें सोनिया के माथे तिलक नहीं…जब कांग्रेस नेता उत्तम कुमार रेड्डी उनका स्वागत कर रहे थे। ऐसे में ये सवाल अहम हो जाता है कि सोनिया के माथे तिलक या तिकड़म? ये तिलक क्या तेलंगाना के हिंदू वोटर्स को आकर्षित करने का फॉर्मूला तो नहीं था?

सोनिया के मंच पर बाबा भी

सोनिया का 'तिलक अवतार'

यही नहीं, सोनिया गांधी के मंच पर एक बाबा भी दिखे। ये बाबा आम तो नहीं थे क्योंकि उन्होंने सोनिया गांधी को कुछ देकर सम्मानित भी किया और उनके साथ तस्वीर भी खिंचवाई। बाद में वो बाबा भी रैली को संबोधित करते दिखे। तो सवाल उठने लाजिमी हो जाते हैं कि क्या सोनिया भी राहुल की तरह ही नुस्खे आजमाने में लगी हैं?

राहुल गांधी दूसरे राज्यों में जब भी चुनावी रैली करने गए तो खूब मंदिर दौरा किए, पूजा पाठ की और तस्वीरें भी खिंचवाईं…क्योंकि बीजेपी अक्सर कांग्रेसियों पर हिंदू विरोधी होने का आरोप लगाती रही है।

राहुल गांधी गुजरात चुनाव के दौरान भी खूब मंदिर गए थे। यहां तक की बीजेपी को जवाब देने के लिए उन्होंने अमरनाथ की यात्रा भी की थी। उसके बाद से कांग्रेस कार्यकर्ता उन्हें शिवभक्त राहुल कहने लगे थे। ऐसे में सोनिया गांधी का तिलक लगाना भी उसी कड़ी से जोड़ कर देखा जा रहा है।

बीजेपी के डर ने बनाया हिेंदूवादी?

सोनिया का 'तिलक अवतार'

इंटरनेट पर कुछ एक फोटोज़ को छोड़, सोनिया गांधी का तिलक अवतार शायद ही कभी दिखा। तो क्या ये कांग्रेस का डर है? क्या बीजेपी के डर ने कांग्रेसियों को हिंदूवादी दिखने पर मजबूर कर दिया है?

ये भी पढ़ें: आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल को सीबीआई से खौफ या मोदी से?

ये भी पढ़ें: बाल-बाल बचे उद्धव ठाकरे, टेक ऑफ से पहले रनवे पर आई नीलगाय

क्या सोनिया को भी लगने लगा है कि बीजेपी अपने आरोपों को असरदार बनाकर उनकी चुनावी मुश्किलें बढ़ा सकती है ? सोनिया गांधी ने रैली में भी यही कहा कि तेलंगाना गलत हाथों में चला गया है। अब तेलंगाना की हालत देख वो दुखी हैं।

गरमा-गरम, पॉलिटिक्सम्

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: