‘पिस्टल पाण्डेय’ के साथ उस रात फाइव स्टार होटल में तीन हसीन दोस्त कौन थी?

'पिस्टल पाण्डेय' के हसिनाओं की कहानी

दिल्ली। लखनऊ के ‘पिस्टल पाण्डेय’ की दिल्ली में की गई ‘रंगबाजी’ भारी पड़ती दिख रही है. फाइव स्टार होटल के गेट पर तमंचे लहराते ‘पिस्टल पाण्डेय’ के हसिनाओं की कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है, इनके बारे में भी जान लीजिए. जिसके लिए आशीष पाण्डेय ने पिस्टल लहराई थी, वो हसिनाएं कौन हैं? दरअसल अपनी अकेलेपन को दूर करने के लिए पाण्डेय जी ने तीन ‘दोस्तों’ को खास तौर पर दुबई से बुलवाया था. इनमें से 2 ब्रिटिश नागरिक हैं, जबकि तीसरी दोस्त, जिसका नाम पामेला है वो दुबई में ही रहती है.

‘पिस्टल पाण्डेय’ के हसिनाओं की कहानी

हयात होटल के गेट पर आशीष के साथ धमकाते हुए जो लड़की दिख रही है वो पामेला है. इससे सोशल मीडिया पर कोई भी ‘दोस्ती’ कर सकता है. ‘दोस्त’ बन चुकी पामेला को कोई भी दुनिया के किसी कोने में बला सकता है. ‘पिस्टल पाण्डेय’ के हसिनाओं की कहानी यहीं से शुरू होती है. ये ‘दोस्ती’ मुफ्त की नहीं होती है. इसके लिए आपको कीमत अदा करनी पड़ेगी. आशीष पाण्डेय भी कीमत अदा कर के ही अपनी खास ‘दोस्त’ को दुबई से दिल्ली बुलाया था. पाण्डेय जी के अकेलेपन को दूर करने के लिए खास ‘दोस्त’ ने 2 और ‘दोस्तों’ को साथ ले आई.

ये भी पढ़ें: दिल्ली का ‘फाइव स्टार बंदूकबाज’ कितना रसूखदार? आखिर किसलिए हुआ था झगड़ा?

दुबई की पामेला रूज़ को जानिए

‘पिस्टल पाण्डेय’ के हसिनाओं की कहानी में टॉप पर है पामेला रूज़. दुबई में रहनेवाली पामेला रूज़ मूलत: पंजाबी है, मगर ब्रिटिश है. दुबई में पामेला काफी मशहूर हस्ती है. इस तरह के लोगों को ‘सोशल पार्टनर’ या ‘फ्रेंड’ कहते हैं. फिलहाल कोई दूसरा शब्द इनके लिए नहीं है. ये एक तरह से पेशेवर ‘दोस्त’ होते हैं. ये लोग किसी भी अनजान को एक अच्छे ‘दोस्त’ की कमी खलने नहीं देती हैं. इनका यही काम होता है. इस अपनेपन की एक कीमत होती है. कोई भी पामेला रूज़ से दोस्ती कर अपना अकेलापन दूर करना चाहता है तो उसे 18 हजार दिरहम की अदायगी करनी होगी. यानी करीब साढ़े तीन लाख रुपए. ध्यान रहे पामेला रूज़ का ये अपनापन सिर्फ वीवीआईपी लोगों के लिए होता है. इसके लिए उस दोस्त को इनके आने-जाने, रुकने, खाने का खर्च उठाना पड़ता है.

‘दोस्तों’ के चक्कर में फंस गए पाण्डेयजी

अकेलेपन को दूर करने के लिए तीन-तीन दोस्तों को दुबई से फ्लाइट से बुलाना. पांच सितारा होटल में ठहराने, खाने-पीने में 10-15 लाख रुपए तो स्वाहा हो ही गए होंगे. ‘पिस्टल पाण्डेय’ के हसिनाओं की कहानी की हसिनाएं अपनी दोस्ती निभा ली. पामेला रूज़ ने भी अपनी दोस्ती निभा ली, पाण्डेयजी का अकेलापन भी दूर कर दिया. अपनी कीमत भी वसूल कर ली. पूर्व बीएसपी सांसद राकेश पाण्डेय के बेटे आशीष पाण्डेय अपने अकेलेपन को दूर करने के लिए दुबई से खास दोस्त तो बुला लिए, उसकी कीमत भी अदा कर दी. मगर जाते-जाते इनके चक्कर में आशीष पाण्डेय ऐसे फंसे की अब भागते-छुपते फिर रहे हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: