4 रुपए तक महंगा हो सकता है पेट्रोल-डीजल, फुल करा लीजिए अपनी गाड़ी की टंकी

4 रुपए तक महंगा हो सकता है पेट्रोल-डीजल

दिल्ली। अगर आप सोच रहे हैं कि कर्नाटक चुनाव के बाद जो पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़े वो मामूली है, तो सावधान हो जाइए. पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगी आग अभी और भड़कनेवाली है. बिजनेस मीडिया फर्म्स का मानना है कि अगर सरकार तेल कंपनियों को कर्नाटक चुनाव से पहले की मार्जिन स्थिति में पहुंचना है तो पेट्रोल-डीजल की कीमतों में प्रति लीटर 4 रुपए तक इजाफा करने होंगे.

कर्नाटक चुनाव खत्म होने के बाद कीमतो में करेक्शन का काम शुरू किया गया.

सरकारी तेल कंपनियों ने 19 दिन बाद फिर से डेली बेसिस पेट्रोल-डीजल की प्राइस रिवाइज करनी शुरू कर दी.

इनमें इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड, और भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड शामिल है.

ये भी पढ़ें: 10 हजार रुपए से शुरू हुई थी फ्लिपकार्ट, 11 साल में बनी 1 लाख 39 हजार करोड़ की कंपनी

ये भी पढ़ें: दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी ने देश की सबसे बड़ी कंपनी को खरीदा, फ्लिपकार्ट अब वॉलमार्ट के हवाले

4 दिन में 69 पैसे महंगा हुआ पेट्रोल

पिछले चार दिनों में ही पेट्रोल 69 पैसे महंगा हो चुका है. दिल्ली में गुरुवार को पेट्रोल 75 रुपए 32 पैसे प्रति लीटर था.

जो पिछले 5 साल में सबसे ज्यादा है. डीजल की कीमत में 86 पैसे की तेजी आई है.

दिल्ली में गुरुवार को ये 66 रुपए 79 पैसे प्रति लिटर बिका.

ये भी पढ़ें: पेट्रोल का टेंशन भूल जाइए, S-340 इलेक्ट्रिक स्कूटर का मजा लीजिए

ये भी पढ़ें: हो जाइए तैयार, दिवाली में आ रही नई वैगन आर, टाटा टियागो से मुकाबला

महंगाई में इजाफा होना तय

पेट्रोल-डीजल के महंगे होने से महंगाई में इजाफा तय माना जा रहा है.

अब क्रूड महंगा होने और पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इजाफा होने से महंगाई बढ़ने का खतरा है.

जानकारों का मानना है कि ये धीरे-धीरे बढ़ेगा, इसलिए लोगों पता भी धीरे-धीरे चलेगा.

मगर इसका अहसास लंबे वक्त तक रहेगा.

दरअसल कच्चे तेल की कीमतों में लगातार इजाफा हो रहा है.

ईरान पर अमेरिका के प्रतिबंध के बाद से कच्चा तेल 75 डॉलर प्रति बैरल के ऊपर बना हुआ है.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 2015 के ईरान परमाणु समझौते को खत्म कर दिया.

अमेरिका ने फिर से ईरान पर आर्थिक प्रतिबंध लगा दिया है.

आपको बता दें कि ओपेक का तीसरा सबसे बड़ा तेल उत्पादक देश ईरान है.

वहीं, क्रूड प्रोडक्शन देशों के संगठन ओपेक और रूस ने आगे भी तेल उत्पादन में कटौती जारी रखने का फैसला किया है.

जिसकी वजह से कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोत्तरी हो रही है.

2 Comments

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: