‘बख्श दीजिए जनाब! जीत भी गए तो पीएम नहीं बन जाएंगे’

‘बख्श दीजिए जनाब! जीत भी गए तो पीएम नहीं बन जाएंगे’

पटना. एनडीए के घटक दलों के बीच विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. केंद्रीय मंत्री और आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव को लेकर अप्रत्यक्ष रूप से जेडीयू उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर पर निशाना साधा है.

ये भी पढ़ें-बीजेपी की उमा नहीं लड़ेंगी 2019 चुनाव, अब राम मंदिर के लिए करेंगी काम

कुशवाहा ने मंगलवार को ट्वीट कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी छात्रसंघ चुनाव में राजनीतिक दलों के बीच मचे घमासान के लिए आड़े हाथों लिया और कहा कि आने वाली पीढ़ी कैसे विश्वास करेगी कि आप भी उसी विश्वविद्यालय के छात्र रहे हैं.

क्या प्रधानमंत्री बन जाएंगे?

कुशवाहा ने आगे लिखा कि जनाब! छात्रसंघ चुनाव को प्रतिष्ठा का प्रश्न बनाकर पुलिस, प्रशासन, विश्वविद्यालय सबको दंडवत करा दिया. इतनी फजीहत कराकर जीत भी गए तो क्या प्रधानमंत्री बन जाएंगे?

लिंगदोह रिपोर्ट की धज्जियां उड़ाई जा रही है

एक अन्य ट्वीट में आरएलएसपी अध्यक्ष ने कहा कि छात्रसंघ का चुनाव छात्रों का है. पटना विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राएं मासूम एवं संवेदनशील हैं, उन्हें बख्श दें. छात्रों को राजनीतिक स्वार्थ में गुमराह कर उनके भविष्य से खिलवाड़ न करें. छात्रों के बीच वैचारिक द्वंद्व को आपराधिक रंग देना ठीक नहीं. लिंगदोह रिपोर्ट की धज्जियां उड़ाई जा रही है.

ये भी पढ़ें-क्या बीजेपी ने खोज लिया राहुल के रफाल का काट? मिशेल को दुबई से भारत लाया गया

कुशवाहा ने छात्रसंघ चुनाव में सत्ता एवं सत्ताधारी दल की ताकत का महादुरुपयोग व्यक्ति के अहंकार की पराकाष्ठा बताया. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अहंकार तो इतिहास में हमेशा ही सर्वनाश का कारण साबित हुआ है. उन्होंने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री जी, आनेवाली पीढ़ी कैसे विश्वास करेगी कि आप भी उसी विश्वविद्यालय के छात्र रहे हैं.

भाजपा और जदयू नेता आमने-सामने

गौरतलब है कि दो दिन पूर्व विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव के प्रचार के दौरान एबीवीपी और जदयू के कार्यकर्ताओं के बीच मारपीट हुई थी. इसमें जदयू के एक छात्र नेता घायल हो गया था. आरोप है कि इस मामले में पटना पुलिस ने एबीवीपी के राज्य कार्यालय में कई बार छापेमारी की थी. इसके बाद भाजपा और जदयू नेता आमने-सामने आ गए.

गरमा-गरम, पॉलिटिक्सम्

3 thoughts on “‘बख्श दीजिए जनाब! जीत भी गए तो पीएम नहीं बन जाएंगे’

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: