दिल्ली के ‘दंगल’ में किसका पलड़ा भारी? शाम-दाम-दंड-भेद या शाहीन बाग?

1
57
delhi votes delhi assembley election 2020 voting will be held from 8am

दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आज मतदान (Delhi Votes) है. आम आदमी पार्टी और बीजेपी के बीच सीधी जंग वाले इस चुनाव में दोनों ओर से जबरदस्त जोर आजमाइश हुई. अब 11 फरवरी को तय होगा कि देश की राजधानी दिल्ली ने किसके दावों पर भरोसा किया.

Delhi Votes मगर किसके लिए?

दिल्ली दंगल की ये वही सियासी तासीर है जो पहले दिन से लेकर अंतिम दिन तक महसूस होती रही। जब दिल्ली नई सरकार (Delhi Votes) बनाने के लिए मतदान को तैयार हो रही थी। तभी दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के OSD की रिश्वत मामले में गिरफ्तारी के बाद फिर से सियासी बयान बाजी का दौर चला।

‘चाय’ और ‘चौकीदार’ के बाद ‘डंडा’ बनेगा मुसीबत? संसद से लेकर कोकराझार तक संग्राम

71 करोड़ का इनामी रिमी मारा गया, ट्रंप के आदेशों के पीछे मकसद क्या?

इस मामले को लेकर बीजेपी केजरीवाल सरकार पर हमलावर रही। आम आदमी पार्टी ने भी रिश्वतखोर अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग कर अपना स्टैंड साफ कर दिया। ये तो हुई सियासी बात।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

दिल्ली की 70 सीटों पर होने जा रहे मतदान (Delhi Votes) के लिए प्रशासन ने भी पूरी तैयारी की है। हाल की गोलीबारी की घटना के बाद पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। दिल्ली के ताज के लिए इस बार सीधी लड़ाई सत्ताधारी आम आदमी पार्टी और बीजेपी के बीच है।

भगवान के दरबार में नेता

जनता के दरबार में दोनों ओर से जोर आजमाइश के बाद बारी आई भगवान से आर्शीवाद लेने की। मतदान (Delhi Votes) से ठीक एक दिन पहले सीएम अरविंद केजरीवाल दिल्ली के हनुमान मंदिर में पूजा अर्चना करने पहुंचे। वहीं, दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कालका मंदिर में पूजा की।

किसमें कितना है दम?

2015 के मुकाबले इस बार की चुनावी जंग ज्यादा तीखी रही। भाषा की मर्यादा कई बार तार-तार हुई। बीजेपी के दो सांसदों अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा के साथ ही बीजेपी उम्मीदवार कपिल मिश्रा के खिलाफ चुनाव आयोग (Delhi Votes) ने कार्रवाई भी की।

IND Vs NZ: ऑकलैंड में होगा हिसाब बराबर, दूसरे वनडे में विराट सेना करेगी पलटवार

कोरोना से चीन की सड़कों पर कौवों की तरह मर रहे लोग, नाक-मुंह ढंकनेवाला मास्क के लिए मारामारी

आम आदमी पार्टी दिल्ली का चुनाव (Delhi Votes) केजरीवाल सरकार के 5 साल के कामकाज के दम पर लड़ रही है। इसमें बिजली, पानी, शिक्षा और स्वास्थ्य के मुद्दे हैं। तो बीजेपी अपनी डबल इंजन थ्योरी के साथ मैदान में है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.