19 साल में ही आसमान का तारा बन गईं ‘दिव्या’, नहीं खुल सका मौत का राज

पांच अप्रैल 1993 को दिव्या भारती की मौत एक हादसे में हो गई थी। ये घटना अंधेरी वेस्ट मुंबई के तुसली अपार्टमेंट की है, जहां इस अपार्टमेंट के लिविंग रूम की खिड़की से दिव्या रात 11:30 बजे ग्राउंड फ्लोर पर गिरीं।

जहां से उन्हें अस्पताल ले जाया गया लेकिन उन्होंने वहां दम तोड़ दिया।

19 साल में ही आसमान का तारा बन गईं ‘दिव्या’

दिव्या भारती की जिंदगी के कुछ अनसुने किस्से के बारे में हम आपको बताएंगे।

ओम प्रकाश भारती और मीता भारती की बेटी दिव्या भारती ने नौवीं क्लास में ही पढ़ाई छोड़ दी थी।

उस वक्त उनकी उम्र 14 साल थी। दिव्या उस वक्त तक कुछ मॉडलिंग कर चुकी थीं।

गोविंदा के भाई कीर्ति कुमार ने उन्हें बतौर हीरोइन लॉन्च करने का फैसला लिया था।

उसके बाद वे तेलुगु और हिंदी फिल्में लगातार साइन करती गईं।

दिव्या परिवार के साथ रहती तो जरूर थीं लेकिन पिता से नहीं बनती थी।

वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जाता है कि दिव्या की मां ताश और जुए की लत से पीड़ित थी।

वहीं, दिव्या के निजी जिंदगी की कहानी भी कम दिलचस्प नीं है।

वह जब शोला और शबनम की शूटिंग कर रही थीं, तभी सेट पर हीरो गोविंदा से मिलने साजिद नाम का एक प्रोड्यूसर आया।

दिव्या का प्यार

दिव्या और साजिद की मुलाकात यहीं हुई। उसके बाद दोनों के बीच प्यार परवान चढ़ा तो दिव्या ने 18 साल की उम्र में ही शादी कर ली। लेकिन दिव्या के पिता इसके खिलाफ थे।

उन्होंने बेटी से बात बंद कर दी। फिर भी दिव्या भारती घर का खर्च उठाती रही।

वहीं, दिव्या व साजिद शादी के बाद मुंबई के वर्सोवा स्थित तुलसी अपार्टमेंट में रहने लगे,

दोनों ने अपनी शादी की बात छुपाकर रखी। क्योंकि उस वक्त मुंबई में सांप्रदायिक हिंसा भड़की हुई थी।

क्योंकि साजिद मुस्लिम और दिव्या हिंदू थी।

मौत के बाद दो फिल्में रिलीज

दिव्या की पांच अप्रैल 1993 को मौत हो गई थी, उसके बाद उनकी दो फिल्में रिलीज हुईं।

जिसमें कमल सदाना के साथ रंग। इसका गाना तुझे न देखूं तो चैन मुझे आता नहीं है, सुपरहिट हुआ।

वहीं, दूसरी फिल्म जैकी श्रॉफ के साथ शतरंज थी। लेकिन दोनों ही फिल्में बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास कमाल नहीं कर पाई। उसी वक्त दिव्या ने अनिल कपूर के साथ फिल्म लाडला की 80 फीसदी शूटिंग करीब पूरी कर ली थी। लेकिन उनकी मौत के बाद श्रीदेवी को लेकर फिल्म पूरी की गई।

दिव्या भारती के पति साजिद नाडियावाला ने साल 2004 तक जो भी फिल्म बनाई, उन सबको दिव्या भारती को डेडिकेट किया। बाद में साजिद ने दूसरी शादी कर ली। दरअसल, पत्रकार वर्धा खान दिव्या भारती की मौत पर स्टोरी कर रही थीं। इसी दरम्यान उनकी मुलाकात साजिद से हुई। फिर दोनों में दोस्ती और फिर प्यार हो गया। लेकिन साजिद आज भी दिव्या को याद करते हैं।

हालांकि दिव्या के बारे में एक अफवाह भी है कि भारी हताशा और निराशा की वजह से दिव्या भारती ड्रग्स भी लेती थीं। लेकिन पुलिस को कोई ऐसा प्रमाण नहीं मिला कि वह मरने से पहले उदास थीं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: