समुद्र में चीन को टक्कर देगा भारत, अंडमान निकोबार में मिलिट्री बेस जल्द

0
33
militery base

अब चीन की नही चलेगी! समुद्र में चीन की बढ़ती ताकत को देखते हुए भारत सतर्क है। ड्रैगन को घेरने के लिए भारत, अंडमान निकोबार में मिलिट्री बेस कैंप (militery base) बनाने की योजना बना रहा है। दरअसल, हिंद महासागार में चीन की बढ़ती दादागीरी का जवाब देने के लिए भारत ने भी तैयारी कर ली है।

ड्रैगन के बढ़ते कदम को रोकने के लिए सामरिक तौर पर महत्वपूर्ण अंडमान निकोबार में मिलिट्री बेस (militery base) बनाने की योजना को अमलीजामा पहनाया जा रहा है

अब चीन की नहीं चलेगी !

साथ ही 2027 तक एएनसी में चरणबद्ध तरीके से सशस्त्र बलों की शक्ति को बढ़ाने के लिए विस्तार की एक योजना (militery base) पर भी काम चल रहा है। इसके तहत, सेना में जवानों की संख्या और एसेट्स को बढ़ाने के लिए लगभग 5,370 करोड़ रुपये प्रस्तावित हैं। शिबपुर में नौसेना के हवाई स्टेशनों पर रनवे और दक्षिण में कैम्पबेल बे को बड़े विमानों के परिचालन में मदद के लिए 10,000 फीट तक बढ़ाया जाएगा। बुनियादी ढांचे के विकास योजना के हिस्से के रूप में कामोर्टा द्वीप पर 10,000 फुट का एक और रनवे भी बनाए जाने की योजना है।

Read more: OMG! भारत में एक आदमी 6 लीटर शराब पीता है

भारत सरकार ने अगले दस सालों में अंडमान-निकोबार द्वीप समूह पर 5 हजार 650 करोड़ रुपए की लागत से मिलिटरी इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास योजना को मंजूरी दी है। इसके पूरा होने पर क्षेत्र में अतिरिक्त युद्धपोत, विमान, ड्रोन, मिसाइल बैटरी और पैदल सैनिक रखे जा सकेंगे।

क्या है चीन की विस्तावादी नीति?

चीन के पास दुनिया की सबसे बड़ी सेना पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी यानी PLA है। हालांकि चीन ने अपनी आर्मी में 50 फीसदी तक कटौती की है। लेकिन बदले में वो नौसेना-वायुसेना की ताकत बढ़ा रही है।

Read more: भारत में 90 फीसदी कार के पीछे की सीट पर बैठने…

भारत समेत पूरे इलाके में चीन की विस्तारवादी नीति किसी से छिपी हुई नहीं है। चीन भारत के पड़ोसी देशों को सामरिक और आर्थिक सहयोग देकर भारत के खिलाफ खड़ा करने की कोशिश में है। लिहाजा चीनी चुनौती को जवाब देने के लिए भारतीय नौसेना ने अंडमान निकोबार पर फोकस (militery base) किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.