ऑनलाइन शॉपिंग की रेस में अमेजन और फ्लिपकार्ट। आप भी कुछ ले लीजिए न सर…

#amazon sale, #amazon, #flipkart, #flipkart offer, #online offer, #online

दिल्ली। जेब में दू-निया नहीं लेकिन खरीदारी दुनिया भर की क्योंकि मन अब जरूरतों और शौक में अंतर नहीं कर पाता। सबकुछ दिमाग से खिसककर मोबाइल में समा चुका है जहां ऑफर्स कुरेदते रहते हैं, आप भी कुछ ले लीजिए न सर…। मार्केट ऑनलाइन है, पैसे प्लास्टिक मनी की शक्ल में और पासवर्ड और ओटीपी में बदल चुका है। मने इच्छा न भी हो लेकिन ऑफर्स हैं…तो खरीद ही डालिए। जाहिर है बाजारवाद के इस झुनझुने के आगे उपभोक्ता सरेंडर मोड में है।

आप भी कुछ ले लीजिए न सर…

हर बार की तरह इस बार भी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियां अमेजन और फ्लिपकार्ट ने फ्रीडम ऑफर के जरिए छूट और ऑफर्स की भरमार लगा दी है। 9 अगस्त से अमेजन और 10 अगस्त से फ्लिपकार्ट पर महासेल शुरू हो रहा है। अगर आप में थोड़ा सा भी कॉस्मोपोलिटन कीड़ा है तो आप इस वर्चुअल मार्केट के बंपर सेल और मेगा खरीदारी से नहीं बच सकते। यानी गलती से भी अगर आपने इसे फोन पर स्क्रॉल किया तो आपका मन आपकी जेब हल्की कर देगा।

रेस में अमेजन और फ्लिपकार्ट

इंडिपेंडेंस डे के मौके पर अमेजन जहां 9 अगस्त दोपहर 12 बजे से फ्रीडम सेल लेकर आ रहा है जिसके तहत कंपनी स्मार्टफोन्स, कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स, फैशन समेत 20 हजार से ज्यादा प्रोडक्ट्स पर ऑफर देगी। इस दौरान एसबीआई कार्ड से खरीदारी करने पर 10 फीसदी का एक्सट्रा डिस्काउंट भी मिलेगा। वहीं, अमेजन को टक्कर देने के लिए फ्लिपकार्ट भी 10 अगस्त से THE BIG FREEDOM SALE शुरू करनेवाली है जहां ग्राहकों को 80% तक डिस्काउंट मिलेगा।

फ्लिपकार्ट के ऑनलाइन बंपर सेल में कंपनी ग्राहकों के लिए अलग-अलग ब्रैंड्स और कैटेगरीज के प्रॉडक्ट्स पर ढेरों ल्यूक्रेटिव ऑफर्स होंगे जिसमें खरीदारों को हर 8 घंटे बाद ब्लॉक बस्टर डील मिलेगी जबकि कुछ प्रॉडक्ट्स पर तो 80% तक की बंपर छूट मिलेगी। और अगर ये खरीदारी सिटी बैंक के क्रेडिट कार्ड से करते हैं तो 10% कैशबैक भी मिलेगा।

क्या है कैशबैक का फंडा?

कैशबैक दरअसल प्रोत्साहन का एक सुपर-डूपर फॉर्मूला बन गया है। ये प्रोत्साहन किसी ख़ास वस्तु या सेवाओं के लिए एक ख़ास विधि से खरीदारी करने के लिए कंपनियां ऑफर करती हैं ताकि उपभोक्ता उसी ख़ास सेवा ये वस्तुओं की खरीदारी करे। नोटबंदी के वक्त सरकार ने ये सुविधा बैंकिंग लेन-देन में दी। ताकि कैशलेस इकोनॉमी को प्रोत्साहन मिले। वहीं प्राइवेट सेक्टर में इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया ई-वॉलेट सेवा सर्विस प्रोवाइडर पेटीएम ने।

भीम ऐप और रुपे पर जोर

फिलहाल सरकार इंडियन एक्सचेंज गेटवे को बढ़ावा देने के लिए रुपे को प्रमोट कर रही है। वहीं यूपीआई का चलन बढ़ाने के लिए भीम ऐप के इस्तेमाल बढ़ाने को तत्पर है। इसके पीछे सरकार की मंशा कैशलेस इकोनॉमी बनाने की है और यही वजह है कि सरकार इससे पेमेंट करने पर जीएसटी में 20% तक की छूट भी दे रही है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: