जानें, कब है सावन की शिवरात्रि, इस शुभ मुहूर्त में पूजा कर करें शिवजी को प्रसन्न

शिवरात्रि 9 अगस्त को

दिल्ली। भगवान भोलेनाथ सबसे प्रिय माह सावन की शुरुआत हो चुकी है। हर साल 12 शिवरात्रि आती है। जिसमें महाशिवरात्रि सबसे ज्यादा खास होती है। जो कि इस बार शिवरात्रि 9 अगस्त को है। माना जाता है कि इसमें व्रत रखने से हर पाप का नाश होता है।

साथ ही भगवान शिव प्रसन्न होते हैं। शास्त्रों के अनुसार सावन शिवरात्रि का बहुत अधिक महत्व होता है। इस दिन व्रत रखने से हर पाप का नाश होता है। साथ ही मनचाहे वर और वधु की प्राप्ति होती है।

शिवरात्रि 9 अगस्त को

साथ ही भगवान शिव की कृपा आपके और परिवार के ऊपर हमेशा बनी रहती है। सावन के शिवरात्रि में पूजा के लिए शुभ मुहूर्त 9-10 अगस्त को रात के निशीथ काल में होता है। जिसका समय रात 12:05 मिनट से 12:48 मिनट तक है। इसमें पारण का समय 10 अगस्त 2018 को सुबह 05:51 से दोपहर 15:43 तक है।

ऐसे करें पूजा की तैयारी

वहीं, इस दिन शिवमुट्ठी के लिए कच्चे चावल, सफेद तिल, खड़ा मूंग, जौ, सतुआ का प्रयोग करें। इसके साथ ही पंचामृत के लिए दूध, दही, चीनी, चावल, गंगाजल मिलाएं। इसके अलावे बेलपत्र, फल, फूल, धूप बत्ती या अगरबत्ती, चंदन, शहद, घी, इत्र, केसर, धतूरा, कलावे की माला, रुद्राक्ष, भस्म, त्रिपुण्ड रखें।

‘ऊँ नम: शिवाय’ का जाप करें

शिवरात्रि के स्नान कर के मन को पवित्र कर लें। घर पर या मंदिर में शिव जी की पूजा करें और शिव जी के साथ माता पार्वती और नंदी गाय को पंचामृत जल अर्पित करें। ऐसा करने के बाद शिवलिंग पर ऊपर बताई हुई सामाग्रियों को एक-एक कर के शिव मंत्र ऊँ नम: शिवाय के जाप के साथ चढ़ाते जाएं। भगवान की पूजा दिल से करें। इससे आप उन्हें जो कुछ भी अर्पित करेंगे उससे आपकी पूजा सफल मानी जाएगी।

सावन में ऐसी मान्यता है कि शिवरात्रि के दिन हर किसी को व्रत रखना चाहिए। व्रत रखते वक्त मूल बातों का ध्यान में रखना जरूरी है। इस दिन केवल फलाकार का सेवन करें और मन को शुद्ध रखें।

One Comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: