धोनी की टीम में सभी खिलाड़ी थे बुढ़ें, चैंपियन बन सबकी बोलती की बंद

आईपीएल 2018 की नीलामी के बाद खिलाड़ियों को लेकर सबसे ज्यादा चेन्नई की टीम निशाने पर रही थी। इस टीम के बारे में तब कहा गया था कि इसमें बूढ़े खिलाड़ियों पर भरोसा दिखाया है।

दिल्ली। आईपीएल 2018 की नीलामी के बाद खिलाड़ियों को लेकर सबसे ज्यादा चेन्नई की टीम निशाने पर रही थी। इस टीम के बारे में तब कहा गया था कि इसमें बूढ़े खिलाड़ियों पर भरोसा दिखाया है।

यहां तक कि सोशल मीडिया पर भी चेन्नई का खूब मजाक उड़ाया गया था। इस टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी हों, शेन वॉटसन हों या फिर ड्वेन ब्रावो और हरभजन सिंह।

ये सभी खिलाड़ी 35 या उससे ज्यादा उम्र के हो चुके हैं। लेकिन आईपीएल शुरू होने के बाद ही इनलोगों ने अपनी उम्र के बारे में बात करने वाले लोगों के मुंह पर ताला लगा दी थी।

ये भी पढ़ें: पहली 10 गेंद पर 0 रन ही बनाए थे वॉटसन, फिर शतक ठोक बनाया रिकॉर्ड जो पहले नहीं बना था

बूढ़े खिलाड़ियों पर भरोसा दिखाया

इस टीम में खिलाड़ियों की औसत उम्र 34 साल है, लेकिन सभी 30 के पार ही हैं, लेकिन अपने अनुभव से विरोधियों के दांत खट्टे करने वाले इन खिलाड़ियों ने एक बार फिर अपनी टीम को आईपीएल का चैंपियन बना दिया है।

दो साल के बैन के बाद वापसी करने वाली चेन्नई सुपर किंग्स आईपीएल में तीसरी बार चैंपियन बनी है।

चेन्नई सुपर किंग्स तीसरी बार चैंपियन

आईपीएल 2018 के फाइनल मुकाबले में चेन्नई ने सनराइजर्स हैदराबाद को आठ विकेट से हराकर कप पर कब्जा कर लिया है। सनराइजर्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए छह विकेट खोकर 178 रन का स्कोर खड़ा किया।

जिसके जवाब में चेन्नई सुपरकिंग्स ने दो विकेट खोकर 19वें में ही लक्ष्य हासिल कर लिया। शेन वॉटसन को उनके धुंआधार पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया है। वहीं, केकेआर के सुनील नारेन को 357 रन पर 17 विकेट लेने के लिए मैन ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया।

One Comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: