बिहार में ‘सुप्रीम’ फैसले पर ‘दंडवत’ सियासत, मोदी बोले- भूचाल का क्या हुआ?

0
17
rafale

पटना: राफेल विमान सौदे की जांच की मांग करने वाली याचिकाओं को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा शुक्रवार को खारिज किए जाने के बाद बिहार की सियासत गरमा गई है.

राजद ने जहां इस मामले की जांच संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से कराने की मांग की है, वहीं एनडीए ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और राजद नेता तेजस्वी यादव से राफेल मामले में देश को गुमराह करने के लिए जनता से माफी मांगने को कहा है.

जेपीसी से हो जांच

बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने राफेल मुद्दे पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर कहा कि अगर भाजपा को लगता है कि वह पवित्र है तो वह जेपीसी बनाने से क्यों भाग रही है. राजद की प्रारंभ से ही मांग रही है कि राफेल विमान मामले की जांच जेपीसी से कराई जाए. इस जांच के बाद दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा.

ये भी पढ़ें- VIDEO: चुनाव हारने पर बीजेपी नेत्री की धमकी, ‘वोट नहीं देनेवाले को रुला दूंगी’

आपके भूचाल का क्या हुआ?

बिहार के उपमुख्यमंत्री और भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने राफेल मामले में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर ट्वीट किया ‘खोदा पहाड़ निकली चुहिया और वह भी मरी हुई’ वाली कहावत चरितार्थ हुई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ईमानदारी पर कोई उंगली नहीं उठा सकता. राहुल जी आपके भूचाल का क्या हुआ? एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा कि चौकीदार चोर है या ‘चोर मचाए शोर है’.

देश से ‘दंडवत’ होकर माफी मांगे

जदयू ने कांग्रेस अध्यक्ष और राजद नेता तेजस्वी यादव से देश की जनता को गुमराह करने के लिए माफी मांगने की बात कही है. जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि राफेल विमान सौदे में किसी तरह की गड़बड़ी को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा खारिज किए जाने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और तेजस्वी यादव को सैनिकों का मनोबल तोड़ने के लिए देश से ‘दंडवत’ होकर माफी मांगनी चाहिए. उन्होंने आगे कहा कि इन दो ‘युवराजों’ की गलतबयानी के कारण देश की बदनामी हुई है.

ये भी पढ़ें- ‘सुप्रीम’ क्लीनचिट पर राहुल गांधी का काउंटर, कहा- चौकीदार चोर है

राफेल विमान सौदे में हुआ है भ्रष्टाचार

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी ने सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर कहा कि पूरी दुनिया जानती है कि राफेल विमान सौदे में भ्रष्टाचार हुआ है, और ऐसे में सरकार जेपीसी से क्यों भाग रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.