पकड़ा गया अंडरवर्ल्ड डॉन का ‘मोती’, क्या परिवार को लंदन में शिफ्ट कराना चाहता है दाऊद?

dawood ibrahim finance manager jabir moti arrested in london

दिल्ली। अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का ‘मोती’ पकड़ा गया. अब ‘मोती’ खोलेगा डॉन का राज़. मोस्ट वॉन्टेड दाऊद के फाइनेंस मैनेजर जबीर मोती को लंदन में गिरफ्तार किया गया. जबीर पर ब्रिटिश जांच एजेंसियों ने शिकंजा कसा. जबीर कि गिरफ्तारी हिन्दुस्तान के लिए बड़ी कामयाबी है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत ने जबीर मोती की गिरफ्तार किए जाने की मांग की थी.

‘मोती’ खोलेगा डॉन का राज़

जबीर सिद्दीकी उर्फ जबीर मोती पाकिस्तानी नागरिक है और दाऊद के आर्थिक मामलों का इंचार्ज माना जाता है. पाकिस्तान से बाहर दाऊद के परिवार का आने-जाने का हिसाब-किताब यही मैनेज करता था. 2016 में इसे ब्रिटेन का 10 साल का वीजा मिला था. इसे लंदन के हिल्टन होटल से गिरफ्तार किया गया. ब्रिटेन में रह रहे जबीर मोती और दाऊद की पत्नी महजबीन, बेटी महरीन और दामाद जुनैद (पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर जावेद मियांदादा का बेटा) के बीच लेनदेन की जांच के बाद जबीर को पकड़ा गया. दाऊद की सबसे छोटी बेटी की अब तक शादी नहीं हुई है. इसका मतलब ये हुआ कि ‘मोती’ खोलेगा डॉन का राज़. डॉन का काला चिट्ठा खुलने ही वाला है. भारत के लिए अच्छी खबर है.

फाइनेंस मैनेजर जबीर मोती

पाकिस्तान, मध्य-पूर्व, ब्रिटेन, यूरोप, अफ्रीका और दक्षिण पूर्व एशिया के देशों में दाऊद का काम जबीर ही देखता था. इसके अलावा दाऊद के परिवार के लंदन आने-जाने का मैनेजमेंट भी यही करता था. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि दाऊद के नैक्सस पर कितनी बड़ी चोट है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इन देशों से होनेवाली कमाई से भारत खिलाफ अभियानों को अंजाम दिया जाता था.

अगला ठिकाना ब्रिटेन था?

खबरों की माने तो दाऊद के परिवार को ब्रिटेन शिफ्ट कराने की योजना पर जबीर काम कर रहा था. कराची के जिस इलाके में दाऊद रहता हैं वहां जबीर का भी अपना बंगला है. जबीर खुद भी बारबेडोस और ऐंटीगा में दोहरी नागरिकता पाने की कोशिश कर रहा था. हंगरी में भी जबीर ने ट्राई किया था. मगर अब दाऊद का राज़दार पुलिस के हत्थे चढ़ गया और ‘मोती’ खोलेगा डॉन का राज़.

1993 के मुंबई बम धमाकों में दाऊद भारत का मोस्ट वॉन्टेड आतंकी है. इन धमाकों में 250 से ज्यादा लोगों की जान गई थी. इसके अलावा दाऊद पर हत्या, उगाही, ड्रग्स तस्करी, आतंकवाद और दूसरे मामलों में तलाश है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: