प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया इस दुर्लभ फूल का जिक्र, जानिए कहां खिलता है

#12 साल के लंबे इंतजार के बाद खिला, #pm modi, #india, #neelkurinji

दिल्ली। 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में एक दुर्लभ फूल का जिक्र किया है। वो फूल नीलगिरी की पहाड़ियों में खिलने वाले खूबसूरत नीले रंग के नीलकुरिंजी फूल से की है। यह फूल इस बार 12 साल के लंबे इंतजार के बाद खिला है।

12 साल के लंबे इंतजार के बाद खिला

मोदी ने कहा कि देश आज नई ऊंचाईयों को पार कर रहा है। सूर्योदय नए उत्साह को लेकर आया है। हमारे देश में 12 साल में एक बार नीलकुरिंजी का पुष्प उगता है, इस साल ये पुष्प तिरंगे के अशोक चक्र की तरह खिल रहा है। दरअसल, केरल के मुन्नार की अन्नामलाई पहाड़ियां नीले-बैंगनी रंग के फूलों से ढकी हुई हैं। इसी नीले-बैंगनी रंग के फूलों का जिक्र अब पीएम मोदी ने भी कर दिया है।

12 साल में एक बार खिलने वाली नीलकुरिंजी फूलों का दीदार अक्टूबर के अंत तक होता है। इन खूबसूरत फुलों को खिलने से पहाड़ियों का रंग नीला हो जाता है, इसी कारण यहां के पहाड़ों को नीलगिरी का नाम भी दिया गया है।

मुन्नार में सबसे ज्यादा नीलकुरिंजी

#12 साल के लंबे इंतजार के बाद खिला, #pm modi, #india, #neelkurinji

पूरे देश भर में मुन्नार में सबसे ज्यादा नीलकुरिंजी के पौधे हैं। ये पहाड़ियों के तीन हजार हेक्टयर क्षेत्र में फैले हुए हैं। हर पौधा अपने जीवनकाल में सिर्फ एक बार खिलता है और फूल खिलने के बाद खत्म हो जाता है। बीज को फिर से पौधा बनने में और 30-60 सेमी तक बड़ा होने में करीब 12 वर्षों का लंबा वक्त लग जाता है।

मुन्नार देश में सबसे फेमस हिल स्टेशन्स में से एक है। यहां की खूबसूरती पहाड़ी ढलानों से दिखती है। यहां चाय के बगान लगभग 80,000 मील की दूरी तक पहाड़ियों को कवर किए हुए हैं। मुन्नर में आमतौर पर ठंड होती है जो आपको आराम देगी और यह एक खास अहसास होगा। एराविकुलम नेशनल पार्क में इस बार फूलों को निहारने के लिए पर्यटकों की संख्या को प्रतिदिन 3500 तक सिमित कर दिया गया है।

अब 2030 में खिलेगा नीलकुरिंजी

#12 साल के लंबे इंतजार के बाद खिला, #pm modi, #india, #neelkurinji

ये फूल इसके पहले 2006 में खिला था. नीलकुरिंजी मुन्नार की पहाड़डियों पर अगस्त से अक्टूबर के बीच खिलता है. इस दौरान नीले रंग वाले इस फूल से मुन्नार की पहाड़ियां पट जाती हैं. नीले रंग के फूल से सजी मुन्नार की पहाड़ियां बेहद खूबसूरत दिखती है. इस साल के बाद नीलकुरिंजी फूल अब 2030 में खिलेगा. अगर आप 12 साल तक इंतजार नहीं करना चाहते तो इस फूल को देखने का यब बिल्कुल सही समय है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: