स्टैच्यू ऑफ यूनिटी कैसे पहुंचे? कहां से खरीदे टिकट? क्या है खासियत?

0
291
स्टैच्यू ऑफ यूनिटी कैसे पहुंचे? कहां से खरीदे टिकट? क्या है खासियत?

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी कैसे पहुंचे? कहां से खरीदे टिकट? क्या है खासियत?

दिल्ली। दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा का रिकॉर्ड अब केवड़िया में ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ के नाम दर्ज हो चुका है. भारत के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की ये प्रतिमा 182 मीटर ऊंची है. हर कोई एक बार ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ देखना चाहेगा. अगर आप ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ देखने का प्लान बना रहे हैं तो आपको ये जानना जरूरी है कि आखिर प्रतिमा तक कैसे पहुंचे?

केवड़िया में ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’


गुजरात में नर्मदा जिले के केवड़िया में साधु आईलैंड पर ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ स्थित है. केवड़िया में ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ पहुंचने के लिए फिलहाल एयरपोर्ट और रेल लाइन के लिए वडोदरा सबसे नजदीक है. ये केवड़िया से महज 89 किलोमीटर दूर है. यहां आप आसानी से सड़क के जरिए केवड़िया में ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ पहुंच सकते हैं. जिनके लिए वडोदरा दूर पड़ेगा वो भरूच से भी पहुंच सकते हैं. भरूच से भी केवड़िया नजदीक है. अगर कोई अहमदाबाद से जाना चाहता है तो वो भी केवड़िया पहुंच सकता है. अहमदाबाद से केवड़िया की दूरी 200 किलोमीटर है. सरकार की योजना है कि साबरमति रीवरफ्रंट से पंचमुली लेक तक सीप्लेन सर्विस भी चालू की जाए.

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक कैसे पहुंचे?


केवड़िया पहुंचने के बाद साधु आईलैंड तक जाना होगा. यही पर सरदार पटेल की प्रतिमा है. सुविधा के लिए केवड़िया से साधु आईलैंड तक साढ़े तीन किलोमीटर का रोड बनाया गया है. जबकि मेन रोड से प्रतिमा तक 320 मीटर लंबा लिंक पुल बनाया गया है. ताकि सैलानियों को दिक्कत न हो. गुजरात सरकार की ओर से केवड़िया में 2 टेंट सिटी का भी निर्माण कराया गया है. इसमें एक में 50 और दूसरे में 200 टेंट है. यहां यात्रियों को रूकने का इंतजाम है. इसके अलावा केवड़िया में ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ से 3 किलोमीटर की दूरी पर होटल की ठीकठाक सुविधा है.

ये भी पढ़ें: 3 हजार करोड़ की ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ देखने के लिए आपको कितने पैसे देने होंगे?

सेल्फी के लिए अलग से इंतजाम


सेल्फी के शौकीन लोग स्टैच्यू के साथ सेल्फी भी ले सकते हैं. इसके लिए अलग से सेल्फी प्वाइंट बनाया गया है. स्टैच्यू के 5 किलोमीटर के दायरे में सेल्फी प्वाइंट बनाया गया है. इसे वैली ऑफ फ्लावर के तौर पर डेवलप किया गया है. गुजरात सरकार ने सैलानियों के स्वागत का पूरा ख्याल रखा है. केवड़िया में ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ के पास सरदार पटेल स्टैच्यू कॉम्प्लेक्स में शॉपिंग सेंटर और एक रिसर्च सेंटर भी बनाया गया है. इसके अलावा प्रतिमा के पैरों में हाईस्पीड लिफ्ट भी लगाई गई है. जिसके जरिए 400 फीट ऊंचाई पर पहुंचकर प्रतिमा का दर्शन कर सकते हैं.

देखने के लिए टिकट कैसे खरीदें?

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी कैसे पहुंचे? कहां से खरीदे टिकट? क्या है खासियत?

  • केवड़िया में ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ लोगों के दर्शन के लिए रोजाना सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक खुला रहेगा.
  • यहां घूमने के लिए टिकट का इंतजाम है, जिसे आप ऑनलाइन भी बुक कर सकते हैं.
  • टिकट बुक करने के लिए https:www.soutickets.in वेबसाइट पर विजिट करना होगा.
  • ऑनलाइन टिकट के लिए नेट बैंकिंग या डेबिट कार्ड से पेमेंट करने पर कोई चार्ज नहीं लगेगा.
  • क्रेडिट कार्ड से ऑनलाइन टिकट बुक करने पर कुल राशि का 1% जीएसटी लगेगा.
  • 2 कैटेगरी में आपको टिकट मिलेगा, एक डेक व्यू और दूसरा एंट्री टिकट.
  • डेक व्यू का टिकट खरीदने के लिए आपको 350 रुपए का भुगतान करना होगा.
  • डेक व्यू टिकट से आप वैली ऑफ फ्लावर, सरदार पटेल मेमोरियल, म्यूजियम, ऑडियो-वीडियो गैलरी के साथ स्टैच्यू ऑफ यूनिटी साइट और सरकार बांध घूम सकते हैं.
  • 120 की एंट्री टिकट से आप स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के ऊपर भी घूम और देख सकते हैं.
  • यहां 3 साल के कम उम्र के बच्चे की एंट्री मुफ्त है. 3-15 साल के बच्चे के लिए 60 रुपए टिकट है. वहीं बड़ों के लिए इसकी कीमत 120 रुपए है.
  • केवड़िया में ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ की छाती के पास झरोखे बने हुए हैं, जहां से आप सरदार सरोवर डैम का नजारा ले सकते हैं.
  • स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी के नीचे एक म्यूजियम है, जहां पर सरदार पटेल की स्मृति से जुड़ी चीजें रखी हुई है.
  • केवड़िया में ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ में लेजर लाइटिंग की व्यवस्था की गई है, जिससे इसकी रौनक दिन-रात बराबर बनी रहेगी.
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की ऊंचाई 182 मीटर है, जो कि दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा है.
  • चीन की स्पिंग टेंपल बुद्धा 153 मीटर और जापान की यूशिकु दाईबुत्शु 120 मीटर ऊंचा है.
  • तीसरे नंबर पर अमेरिका की स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी है, जिसकी ऊंचाई 93 मीटर है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.