दिल्ली में कैसे पकड़ा गया ‘आतंक का मौलवी’? रॉकेट लॉन्चर बनाने की देता था ट्रेनिंग

0
10
NIA: कैसे पकड़ा गया 'आतंक का मौलवी'? रॉकेट लॉन्चर बनाने की देता था ट्रेनिंग

इस्लामिक स्टेट के नए मॉड्यूल का NIA ने कैसे किया भंडाफोड़ा?

दिल्ली। समय रहते एक बड़े आतंकी साजिश को नाकाम कर दिया गया. नेशनल इनवेस्टिगेटिव एजेंसी (NIA) ने इंडिया में इस्लामिक स्टेट के एक बड़े मॉड्यूल ‘हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम’ का भंडाफोड़ किया. इस मामले में 10 संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है. ये लोग दिल्ली में 26 जनवरी से पहले बड़े पैमाने पर हमले की तैयारी में थे.

100 मोबाइल और 135 सिमकार्ड

दिल्ली के जाफराबाद में 6 जगहों के अलावा मेरठ, अमरोहा, लखनऊ और हापुड़ में 17 जगहों पर छापेमारी की गई. इसमें दिल्ली से 5 और यूपी से 5 संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया. इनके पास से भारी मात्रा में बम बनाने के सामान, रॉकेट लॉन्चर और हथियार मिले हैं. इनकी तैयारी रिमोट कंट्रोल के जरिए ब्लास्ट करने की थी. एक ग्रेनेड लॉन्चर, 17 पिस्तौल, 25 किलो केमिकल, 120 अलार्म घड़िया बरामद हुई है. NIA के मुताबिक फिदायीन हमले की भी तैयारी थी और इसके लिए जैकेट भी बना रहे थे. ये लोग आपस में टेलीग्राम और वॉट्सऐप से बात करते थे. इनके पास से 100 मोबाइल बरामद हुए हैं. 135 सिमकार्ड भी मिले हैं. साढ़े 7 लाख रुपए भी जब्त किए गए. 3 लैपटॉप, तलवारें और चाकू भी मिले हैं.

मौलवी निकला मास्टरमाइंड

NIA ने दावा किया है कि इस संगठन का सरगना मुफ्ती सुहेल इंटरनेट के जरिए विदेश में एक हैंडलर से जुड़ा हुआ था. ये लोग आईएस मॉड्यूल से प्रभावित थे, ऐसे में ये साफ है कि इस साजिश में ये लोग क्यों शामिल हुए. ये लोग पहले कभी ऐसी किसी साजिश में थे, इसकी जानकारी फिलहाल नहीं है. NIA के मुताबिक अमरोहा का 29 साल का मुफ्ती सुहैल इस मॉड्यूल का सरगना है. वो अमरोहा की मस्जिद में मौलवी है. वो ही सबको प्रभावित करने वाला मुख्य शख्स है. वहीं इन लोगों को अलग-अलग सामान लाने का निर्देश देता था. कैसे किससे मिलना है, क्या बात करनी है ये सब सहेल तय करता था. ये ग्रुप आत्मघाती हमलों की तैयारी कर रहा था, वो आत्मघाती जैकेट बना रहे थे. ये सामान अमरोहा में बन रहा था.

इंजीनियर भी साजिश में शामिल

NIA ने कहा कि गिरफ्तार किए गए लोगों में ज्यादातर की उम्र 20-30 साल के बीच है. ये अलग-अलग बैकग्राउंड के रहनेवाले हैं. एक-दो की वेल्डिंग शॉप है. एक इंजीनियर है. एक बीए पार्ट-3 का स्टूडेंट है. एक ऑटो ड्राइवर है. एक की कपड़ों की दुकान है. एक मौलवी है. एक एमिटी यूनिवर्सिटी में सिविल इंजीनियरिंग का स्टूडेंट भी है. पूरे मामले में एक महिला को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. अभी छानबीन जारी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.